JharkhandLead NewsRanchi

सीसीएल के पास पिछले वर्ष की तुलना में 83 प्रतिशत अधिक कोयले का भंडार

-15 मिलियन टन इंपोर्टेड कोयले की मांग को घरेलू कोयले से पूरा करने की योजना

Ranchi: सीसीएल सुरक्षा के सभी मापदंडों का अनुपालन करते हुए निरंतर सुरक्षित उत्पादन कर रहा है. साथ ही खान सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध सीसीएल नवीनतम तकनीकों को अपनाते हुए कोयला खनन में अग्रणी भूमिका निभा रहा है. खान सुरक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान और उपलब्धि के लिए सीसीएल को हाल ही में कोल मिनिस्टर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है. सीसीएल प्रबंधन के मुताबिक कोरोना महामारी के कारण पूरे विश्व में व्याप्त आर्थिक मंदी के बावजूद सीसीएल ने कोयला उत्पादन निर्बाध रूप से जारी रखते हुए वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 में भी लक्ष्य प्राप्ति की ओर पूरी प्रतिबद्धता के साथ आगे बढ़ रहा है.

इसे भी पढ़ें:MS Dhoni  की चेन्नई सुपर किंग्स नजर आयेगी नये अवतार में, video में देखें क्या है खास

सीसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक पीएम प्रसाद के मुताबिक जनवरी 2021 में पावर सेक्टर के ग्राहकों और सीसीएल के स्टॉक में कुल 18.20 टन कोयले का भंडार था. जो पिछले वर्ष की तुलना में 83% अधिक है. सीसीएल ने 15 मिलियन टन इंपोर्टेड कोयले की मांग को घरेलू कोयले से पूरा करने की योजना बनाई है, जो आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा.

सीसीएल के प्रबंध निदेशक श्री प्रसाद के मुताबिक कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दोहरे चुनौतियों के बीच सीसीएल दूरगामी सोच और अपनी बेहतरीन कार्यशैली के साथ-साथ कोयला उत्पादन क्षमता को बढ़ाने की दिशा में निरंतर अग्रसर हो रहा है. उन्होंने बताया कि इस दौरान सीसीएल को 10 नई परियोजनाओं की मंजूरी मिली है. जिस वजह से कंपनी का कुल उत्पादन क्षमता में 50 मिलियन टन की वृद्धि संभव होगी. उनके मुताबिक नई कोतरे-बसंतपुर पचमो परियोजना शुरू होने वाली है. उक्त परियोजना के विकास एवं संचालन के लिए एमडीओ कंपनी को कार्य आदेश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें:रांची बार एसोसिएशन चुनाव की तारीख अभी तक घोषित नहीं, बोकारो और धनबाद में संपन्न हुआ चुनाव

इस परियोजना से कोकिंग कोल का 5 मिलियन टन का वार्षिक उत्पादन होगा, जिससे कोयले का आयात घटेगा और विदेशी मुद्रा की भी बचत होगी. सीसीएल द्वारा 20 मेगा वाट का सोलर प्रोजेक्ट कोल गैसीफिकेशन योजनाओं को भी मूर्त रूप दिया जा रहा है. सीसीएल प्रबंधन के मुताबिक सीसीएल की रेक लोडिंग में भी 9% की वृद्धि दर्ज की गई है. एक ओर जहां पिछले वर्ष 32.71 रेक प्रतिदिन लोड होते थे, वहीं इस वर्ष 35.67 रेक प्रतिदिन लोड किए जा रहे हैं. हाल ही के दिनों में एक दिन में 77 रैक कोयला लोड कर प्रेषण किए जाने का सीसीएल ने एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है.

Related Articles

Back to top button