West Bengal

हजारों करोड़ के सारधा रोज वैली घोटालों की जांच फिर से शुरू करेगी सीबीआइ

Kolkata: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) सारधा और रोज वैली घोटालों की जांच के तहत सभी चिट फंड घोटालों पर नये सिरे से विचार करने के लिए तैयार है. एजेंसी के करीबी सूत्र ने कहा कि सीबीआइ ऐसे लोगों को नये सिरे से समन जारी करने के लिए तैयारी कर रही है, जो ऐसे मामलों में उलझ गये हैं.

एजेंसी के सूत्र ने कहा कि सीबीआइ ने 15 ऐसी पोंजी कंपनियों के खिलाफ मामले शुरू किये हैं, जिन्होंने आकर्षक रिटर्न के वादे के साथ निवेशकों से 400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की थी. हालांकि चिट फंड कंपनियां 2004 -05 में फली-फूलीं, लेकिन यह 2013 में ही बढ़ी जब सारधा और रोज वैली घोटालों का भंडाफोड़ हुआ.

सूत्रों ने दावा किया कि सीबीआइ ने 15 समूहों और कंपनियों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करके मामले शुरू किये हैं. इनमें से कम से कम 14 कंपनियों का मुख्यालय कोलकाता और उत्तर और दक्षिण 24 परगना में स्थित हैं.

इसे भी पढ़ें – पूर्व विधायक अनंत प्रताप समेत 80 नये कोरोना संक्रमित मिले, झारखंड में हुए 3760 केस

आकर्षक रिटर्न का वादा कर उगाही की

सूत्रों ने दावा किया है कि इन कंपनियों ने निवेशकों से आकर्षक रिटर्न का वादा करके 80 से 100 करोड़ रुपये की उगाही की. सूत्रों ने एक संकेत भी दिया कि सीबीआइ सारधा और रोजवैली घोटालों के बारे में बहुचर्चित मामलों में नये सिरे से जांच करने के तरीके तलाश रही है.

सीबीआइ सारधा और रोज वैली घोटालों की जांच के तहत सभी चिट फंड घोटालों पर नये सिरे से विचार करने के लिए तैयार है. एजेंसी के करीबी सूत्र ने कहा कि सीबीआइ ऐसे लोगों को नये सिरे से समन जारी करने के लिए तैयार कर रही है, जो ऐसे मामलों में उलझ गये हैं.

सीबीआइ “बड़ी मछलियों” से पूछताछ करने के लिए सभी “कानूनी विकल्पों” का आकलन कर रही है, जिसमें कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार शामिल हैं जिनके खिलाफ एजेंसी को कानूनी शिकंजे के चलते पीछे हटना पड़ा था.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के कुछ जिलों में फिर से लग सकता है लॉकडाउन : डॉ रामेश्वर उरांव

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close