न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

रार सीबीआई की : जस्टिस पटनायक से वर्मा ने कहा था, सीवीसी चौधरी राकेश अस्थाना की पैरवी करने आये थे  

सीबीआई से हटाये गये निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने जस्टिस एके पटनायक को बताया कि केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के केवी चौधरी छह अक्टूबर को उनके आवास पर सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना की पैरवी करने आये थे.

36

NewDelhi :  सीबीआई से हटाये गये निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने जस्टिस एके पटनायक को बताया कि केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के केवी चौधरी छह अक्टूबर को उनके आवास पर सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना की पैरवी करने आये थे.  बता दें कि आलोक वर्मा को 23-34 अक्टूबर की आधी रात एक आदेश के तहत छुट्टी पर भेज दिया गया था. जान लें कि एके पटनायक सीवीसी द्वारा की जा रही जांच का निरीक्षण करने वाले सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज हैं. इस बैठक को लेकर आलोक वर्मा ने अपने सबमिशन में जस्टिस एके पटनायक को बताया था कि चौधरी ने अस्थाना की एनुअल परफॉर्मेंस एप्रेजल रिपोर्ट के संबंध में बात की थी. यह रिपोर्ट आलोक वर्मा ने साइन की थी.

eidbanner

आलोक कुमार वर्मा ने अपने सबमिशन में जस्टिस पटनायक के समक्ष्  केवी चौधरी और उनके दो साथी आयुक्त, टीएम भसिन और शरद कुमार का जिक्र किया था. मगर सीवीसी द्वारा 12 नंवबर को सुप्रीम कोर्ट को सौंपी गयी 53 पन्नों की रिपोर्ट का इसका कोई उल्लेख नहीं किया गया.  इस रिपोर्ट के आधार की वजह से आलोक वर्मा दस जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाली चयन समिति द्वारा दूसरी बार सीबीआई प्रमुख के पद से हटाये गये.

चौधरी ने एक घंटे से भी अधिक समय बिताया

Related Posts

UN की  रिपोर्ट : हिंसा, युद्ध के कारण दुनियाभर में सात करोड़ से ज्यादा लोग विस्थापन के शिकार हुए

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी की सालाना ग्लोबल ट्रेंड्स रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में हिंसा, युद्ध और उत्पीड़न के कारण लगभग 7.1 करोड़ लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं.

बता दें कि शुक्रवार 11 जनवरी को इंडियन एक्सप्रेस को दिये साक्षात्कार में जस्टिस पटनायक ने कहा कि वह सीवीसी के निष्कर्षों में किसी भी तरह से जुड़े नहीं हैं.  जान लें कि संडे एक्सप्रेस को मिले दस्तावेजों के अनुसार आलोक वर्मा ने जस्टिस पटनायक को बताया कि छह अक्टूबर शनिवार के दिन चौधरी उनके आवास पर आये और अस्थाना की एप्रेजल रिपोर्ट पर वर्मा की टिप्पणी के संबंध में बातचीत की.  इस रिपोर्ट में उन्हीं के साइन थे, जो उन्होंने जुलाई, 2018 में किये थे. दस्तावेजों के अनुसार आलोक वर्मा ने अपने सबमिशन में बताया कि शायद यह स्पेशल डायरेक्टर के बारे में विशेष कारण था, जब चीफ विजिलेंस कमिश्नर, सुपरिटेंडेंट के बजाय पैरोकारी के लिए एक सहयोगी के साथ मेरे आधिकारिक निवास पर आये. चौधरी ने एक घंटे से भी अधिक समय बिताया; कहा कि मैं यहां खुद से इसलिए आया हूं कि इस मुद्दे पर हल निकाला जाये.

इसे भी पढ़ें :  कांग्रेस अकेले मोदी को सत्ता से बाहर नहीं कर सकती, गठबंधन जरूरी: एके एंटनी   

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: