न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीआई मुख्यालय सील, एम नागेश्वर राव बने नये डायरेक्टर, वर्मा व अस्थाना भेजे गये छुट्टी पर

668

New Delhi: सीबीआई डाइरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डाइरेक्टर राकेश अस्थाना के बीच चल रहे शीतयुद्ध और दोनों के बीच हो रहे तू चोर-तू चोर के बीच केंद्र सरकार ने दोनों अफसरों को छुट्टी पर भेज दिया है. सीबीआई चीफ आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना दोनों ही अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया गया है. वहीं ज्वाइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बनाया गया है. अग्रिम आदेशों तक अब सीबीआई का संचालन एम नागेश्वर राव करेंगे. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सीबीआई मुख्यालय को सील कर दिया है. ना कोई बाहर आ सकता है और ना बाहर का कोई भीतर जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई में जारी घमासान के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार: पृथ्वीराज चव्हाण

उल्लेखनीय है कि सीबीआई, कार्मिक मंत्रालय के अधीन आता है. और इस मंत्रालय के प्रभारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि दोनों शीर्ष अफसरो के बीच जारी आरोप-प्रत्यारोप से सीबीआई की विश्वसनीयता पर उठते सवालों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश पर यह कार्रवाई हुई है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई : एन इनसाइड स्टोरी

क्या है मामला

गौरतलब है कि सीबीआई ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर रिश्वत का केस दर्ज किया है. एफआईआर में उन पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया है. जिसके बाद राकेश अस्थाना ने सीबीआई चीफ आलोक वर्मा पर भी दो करोड़ रुपये घूस लेने का आरोप लगा दिया. इधर पूरे मामले को लेकर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद डायरेक्टर वर्मा से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के एक घंटे के भीतर ही केस से जुड़े डीएसपी रैंक के अधिकारी देवेंद्र कुमार गिरफ्तार हो गए.

palamu_12

इसे भी पढ़ेंःCBI VS CBI: राकेश अस्थाना ने किया दिल्ली हाईकोर्ट का रुख

राकेश अस्थाना को राहत

वही पूरे मामले को लेकर राकेश अस्थाना ने मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है. राकेश अस्थाना ने अपने ऊपर दर्ज एफआईआर रद्द करने की याचिका दायर की थी.राकेश अस्थाना की गिरफ्तारी पर सोमवार तक हाईकोर्ट ने रोक लगाई है. याचिका पर न्यायाधीश ने सीबीआई से कहा कि वह मामले में विशेष निदेशक के खिलाफ शुरू की गई आपराधिक कार्यवाही पर 29 अक्टूबर को मामले की अगली सुनवाई तक यथास्थिति बनाए रखे. हालांकि कोर्ट स्पष्ट किया कि मामले की प्रकृति और गंभीरता को देखते हुए इस मामले में जारी जांच पर किसी तरह का स्थगन नहीं है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: