न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हथियारों के दलाल संजय भंडारी का केस सीबीआई ने बंद किया, राफेल डील और वाड्रा से जुड़ा है नाम

संजय भंडारी के खिलाफ केस बंद का करने का फैसला पूर्व निदेशक ने 13 मार्च 2018 को ले लिया था. जांच की सिफारिश के लिए नीतिगत निर्णय लेने की आवश्यकता थी. यह सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी गाइडलाइन्स के विरुद्ध है, इसलिए केस दोबारा खोलने की मांग नहीं की गयी.

95

NewDelhi : चर्चित और विवादित हथियार दलाल चार्टर्ड ऑडिटर संजय भंडारी के खिलाफ सीबीआई ने मामला बंद कर दिया है. खबरों के अनुसार मामला बंद करने का आदेश सीबीआई के अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव ने दिया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सीबीआई ने इस संबंध में कहा कि संजय भंडारी के खिलाफ केस बंद का करने का फैसला पूर्व निदेशक ने 13 मार्च 2018 को ले लिया था.  इस मामले में जांच के बाद और अपर्याप्त सबूतों के कारण पूर्व निदेशक ने 13 मार्च 2018 को केस बंद करने का निर्णय लिया था.  बताया गया है कि इस केस की फाइल दोबारा जांच के लिए अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव के पास भेजी गयी थी. लेकिन इसमें जांच की सिफारिश के लिए नीतिगत निर्णय लेने की आवश्यकता थी. यह सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी गाइडलाइन्स के विरुद्ध है,  इसलिए केस दोबारा खोलने की मांग नहीं की गयी.  जानकारी के अनुसार 2016 में आयकर विभाग ने दलाल संजय भंडारी के घर छापा मारा था.

भंडारी के घर से भारतीय सेना से जुड़े कई गोपनीय दस्तावेज बरामद किये गये थे

छापेमारी के क्रम में भंडारी के घर से भारतीय सेना से जुड़े हुए कई गोपनीय दस्तावेज बरामद किये गये थे.  लेकिन सरकार शिकंजा कसती, इससे पहले ही भंडारी नेपाल के रास्ते देश से भाग गया था.  सूत्रों के अनुसार भंडारी अभी लंदन में है. भारतीय एजेंसियां उसे वापस लाने के प्रयास में जुटी हुईं हैं.  राफेल डील और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा राबर्ट वाड्रा से भी संजय भंडारी का नाम जुड़ा हुआ है. भाजपा आरोप लगाती रही है कि वाड्रा के भंडारी से करीबी रिश्ते हैं.  यह भी आरोप है कि यूपीए सरकार के दौरान वाड्रा के दबाव में ही राफेल डील नहीं हो पायी थी. बता दें कि इंडिया टुडे ने 2016 में भंडारी पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी.  रिपोर्ट में 2011 में आयी आईबी की रिपोर्ट के हवाले से दावा किया गया था कि संजय भंडारी  वाड्रा सहित कई कांग्रेस नेताओं के संपर्क में है.  रिपोर्ट के अनुसार संजय भंडारी का नाम भारतीय वायु सेना के लिए बेसिक जेट ट्रेनर्स (बीटीए) की खरीद के लिए हुई एक डील में सामने आया था.  भंडारी ने ऑफसेट इंडिया सॉल्युशंस (ओआईएस) की स्थापना की थी.  हालांकि आईबी ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि ओआईएस भंडारी की मुखौटा कंपनी थी, जिसे कोई और संचालित कर रहा था. बताया जाता है कि संजय भंडारी पूर्व में लग्जरी कारों के ​आयात का धंधा किया करता था.

लेकिन बाद में वह अचानक रक्षा सौदों का बड़ा बिचौलिया बनकर उभरा और विदेशी कंपनियों के लिए सौदेबाजी करने लगा.  खबरों के अनुसार आईबी ने जब भंडारी के फोन नंबर की छह महीने की कॉल डिटेल निकलवाई तो पता चला कि वह रॉबर्ट वाड्रा समेत कई बड़ी हस्तियों के लगातार संपर्क में है. संजय भंडारी ने रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी ब्लू ब्रिज ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड के रजिस्टर्ड नंबर पर कई बार कॉल की. आईबी की रिपोर्ट के अनुसार भंडारी से पहले यह नंबर रॉबर्ट वाड्रा इस्तेमाल करता था.

 इसे भी पढ़ें : केंद्र सरकार ने अनिल अंबानी की कंपनी से मांगे बैंक गारंटी के 2940 करोड़, SC में गुहार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: