न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीआई विवाद : आलोक वर्मा को SC ने तीन घंटे का समय दिया, चेताया, हर हाल में कल सुनवाई

SC ने सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को सोमवार, 19 नवंबर को तीन घंटे का और समय देते हुए चार बजे तक जवाब देने का आदेश दिया.

79

NewDelhi : SC ने सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को सोमवार, 19 नवंबर को तीन घंटे का और समय देते हुए चार बजे तक जवाब देने का आदेश दिया. बता दें कि सोमवार को SC में याचिका दाखिल कर वर्मा ने कहा कि वह केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट पर एक बजे तक जवाब दाखिल नहीं कर पायेंगे. इस पर कोर्ट ने वर्मा को तीन घंटे का समय, यानी चार बजे तक का और समय दिया. इस क्रम में सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा से कहा है कि इस मामले की मंगलवार, 20 नवंबर को ही मामले की सुनवाई होगी. कहा कि यह मत सोचना कि मामले की तारीख आगे बढ़ा दी जायेगी.  बता दें कि सीवीसी की रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा से जवाब मांगा था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आलोक वर्मा सीलबंद लिफाफे में कोर्ट को सोमवार को जवाब दाखिल करें.  कोर्ट द्वारा कहा गया था कि सीवीसी की जांच रिपोर्ट की कॉपी पूरी तरह से गोपनीय रखी जायेगी.  सीवीसी रिपोर्ट की कॉपी आलोक वर्मा को सौंपने का निर्देश भी कोर्ट ने दिया था.

इसे भी पढ़ें :  …तो वरवरा राव को उम्रकैद या फांसी तक की सजा मिल सकती है

 तबादले के खिलाफ सीबीआई अधिकारी SC की शरण में

एक अऩ्य मामले में विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारी ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगायी. अपना तबादला नागपुर किये जाने का आदेश रद्द करने का अनुरोध किया.बता दें कि भ्रष्टाचार के कथित मामले में अस्थाना की भूमिका की जांच कर रही टीम का हिस्सा रहे आईपीएस अधिकारी मनीष कुमार सिन्हा ने मंगलवार को अविलंब सुनवाई के लिए सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष अपनी याचिका का उल्लेख किया. यह पीठ सीबीआई निदेशक के अधिकार छीनने और अवकाश पर भेजने संबंधी सरकारी आदेश को चुनौती देने वाली सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर कल सुनवाई करने वाली है.  सिन्हा ने कहा कि उनकी अर्जी पर भी कल वर्मा की याचिका के साथ ही सुनवाई की जाये.  उनका आरोप है कि उनका तबादला नागपुर कर दिया गया है.  इस वजह से वह अस्थाना के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी की जांच से बाहर हो गये हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: