न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

CBI विवादः IRCTC घोटाले में निदेशक वर्मा ने लालू प्रसाद के खिलाफ जांच करने से किया था मना- अस्थाना

विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने केंद्रीय मंत्रिमंडलीय सचिव से की लिखित शिकायत

228

Ranchi: देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी सीबीआइ के दो वरिष्ठ अधिकारियों की लड़ाई पर अब सर्वोच्च न्यायालय ने भी हस्तक्षेप किया है. विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने अपने बॉस (निदेशक) एके वर्मा पर ही कई मामलों में आरोपियों को बचाने की कोशिश करने का जिक्र करते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडलीय समन्वय विभाग के सचिव को पत्र लिखा है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई विवाद में रफाल डील भी एक अहम मुद्दा

उन्होंने कहा है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बीएनआर होटल खरीद प्रकरण (IRCTC घोटाला) में निदेशक ने कई बार कार्रवाई करने से मना किया था. इसके दृष्टांत भी हैं. उन्होंने कहा है कि बीएनआर होटल प्रकरण में जब श्री प्रसाद के खिलाफ शिकायत की गयी थी. उस समय सीबीआइ के कई वरीय अधिकारियों ने सर्च अभियान को ही रोकने के लिए फोन घनघनाना शुरू कर दिया था.

hosp3

कई अधिकारियों ने की थी पैरवी

शिकायत के आधार पर जब दस्तावेजों की जांच शुरू की गयी. तब सीबीआइ के ही जांच पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, डीआइजी, संयुक्त निदेशक और सहायक निदेशक ने जांच के क्रम में कई बार लालू प्रसाद के पाक-साफ होने पर अपनी पैरवी की. जो आईपीसी की विभिन्न धाराओं के अनुकूल नहीं है. इस प्रकरण में देश के एक नामी-गिरामी कांट्रैक्टर आहलुवालिया कांट्रैक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड का भी नाम आया. चूंकि सीबीआइ निदेशक श्री वर्मा के कंपनी के मालिक विक्रमजीत सिंह के साथ पारिवारिक संबंध थे, तो पूरे प्रकरण में इनका नाम ही गायब हो गया. इसमें यह भी कहा गया कि लालू प्रसाद का कोई संबंध होटल बीएनआर प्रकरण में नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःबकोरिया कांडः जब मुठभेड़ फर्जी नहीं थी, तो सीबीआई जांच से क्यों डर रही है सरकार !

सर्च अभियान बंद करने के लिए कैंसल कराये गये एयर टिकट

श्री अस्थाना ने आगे कहा है कि जब लालू प्रसाद की संपत्ति और अन्य मामलों की सर्च की जा रही थी, उस समय निदेशक की तरफ से यह फोन आया कि सर्च अभियान बंद कर दिया जाये. यह कॉल संयुक्त निदेशक (जोन-1) के पास आया था. उन्हें निर्देश दिया गया कि वे सर्च अभियान बंद करें और इसी क्रम में संयुक्त निदेशक का एयर टिकट सर्च अभियान के एक दिन पहले कैंसल कर दिया गया.

जानिये झारखंड की विकास गाथा का सच

दोबारा, मैंने अपने स्तर से सर्च अभियान चलाने का निर्णय लिया और न्यायालय से इस संबंध में सर्च वारंट भी प्राप्त कर लिया. इस पर भी निदेशक श्री वर्मा ने मुझसे अभियान बंद करने का निर्देश दिया. जिससे विभाग की काफी फजीहत हुई. इस निर्देश से सीबीआइ के संयुक्त निदेशक स्तर के कई अधिकारियों के पटना जाने की एयर टिकट कैंसल करायी गयी. इससे यह प्रतीत होता है कि कैसे बीएनआर होटल प्रकरण में राजद प्रमुख और रेलवे के कई वरिष्ठ अधिकारियों को सीबीआइ निदेशक ने बचाने की कोशिश की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: