न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीआई के अतिरिक्त एसपी गुर्म पहुंचे उच्च न्यायालय, कहा- अस्थाना अदालत को कर रहे हैं गुमराह

अस्थाना के खिलाफ एक मामले के शिकायतकर्ता हैदराबाद के कारोबारी दुबई स्थित दो बिचौलियों और एक शीर्ष रॉ अधिकारी के बीच स्पष्ट और अचूक संबंध साबित करने वाले अपराध से जुड़े साक्ष्य हैं.

18

अस्थाना के खिलाफ Delhi : सीबीआई के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एसपी) एस एस गुर्म ने अस्थाना के खिलाफ उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है. दिल्ली उच्च न्यायालय को सौंपे एक आवेदन में कहा कि जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ एक मामले के शिकायतकर्ता हैदराबाद के कारोबारी दुबई स्थित दो बिचौलियों और एक शीर्ष रॉ अधिकारी के बीच स्पष्ट और अचूक संबंध साबित करने वाले अपराध से जुड़े साक्ष्य हैं.

इसे भी पढ़ें : हाशिमपुरा कांड  : दिल्ली हाइकोर्ट ने 16 पीएसी जवानों को उम्रकैद की सजा सुनाई

याचिका में पक्षकार बनाने का अनुरोध

जांच एजेंसी में अतिरिक्त एसपी पद पर तैनात गुर्म ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर अस्थाना की उस रिट याचिका में पक्षकार बनाने का अनुरोध किया. जिसमें उन्होंने 16 अक्टूबर को उनके तथा अन्य के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी.

उन्होंने कहा कि इस बारे में तर्कसंगत संदेह है कि सीबीआई घूसखोरी के एक मामले में अस्थाना के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को खारिज करने की मांग वाली उनकी याचिका को असरदार तरीके से चुनौती नहीं देगी.

इसे भी पढ़ें : रेप मामले में SC की महिला पीठ का नजरिया, किसी का लूज कैरेक्टर आपको दुष्कर्म करने का हक नहीं देता

अस्थाना कर रहें हैं गुमराह

गुर्म ने अस्थाना, सीबीआई डीएसपी देवेंद्र कुमार और दुबई के कारोबारी मनोज प्रसाद तथा सोमेश प्रसाद से जुड़े घूसखोरी के मामले में रॉ के विशेष निदेशक सामंत गोयल का भी नाम लिया. उन्होंने आरोप लगाया कि अस्थाना अदालत के सामने चुनिंदा तथ्य रखकर अदालत को गुमराह कर रहे हैं.

palamu_12

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच टकराव के बीच अन्य सीबीआई अधिकारियों के साथ गुर्म का भी तबादला कर दिया गया था. दिल्ली से जबलपुर स्थानान्तरित किये गये अधिकारी ने इस मामले में सुने जाने का अवसर देने की मांग की.

इसे भी पढ़ें : इज आफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स में भारत 23 अंकों के उछाल के साथ 77वें पायदान पर पहुंचा

रिश्वत लेने का आरोप

उच्च न्यायालय में दिये आवेदन में अतिरिक्त एसपी ने इस मामले से जुड़ी कई घटनाएं बताईं, जिनमें वह हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना द्वारा दायर शिकायत की जांच करने वाली टीम में शामिल थे. सना ने अस्थाना और अन्य पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से संबंधित मामले को निपटाने के लिए रिश्वत लेने का आरोप लगाया था.

इसे भी पढ़ें : एयरसेल-मैक्सिस केस : इडी ने कोर्ट से कहा, चिदंबरम नहीं कर रहे सहयोग, कस्टडी में पूछताछ जरूरी

उन्होंने कहा कि आवेदक (गुर्म) को इस बात का तार्किक संदेह है कि सीबीआई अस्थाना को बचाने और उनकी मदद करने की कोशिश कर रही है और शायद वह उनकी याचिका को असरदार तरीके से चुनौती नहीं देगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: