NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
Browsing Category

Tirhut Diary ( तिरहुत डायरी )

मानो अंग्रेजी अनुवाद नहीं होता तो कालिदास अभी तक किसी पेड़ की डाली पर बैठ कर डाल काट रहे होते

खट्टरकाका की डायरी से Vijay deo jha जब कभी कालिदास के अभिज्ञान शाकुंतलम की चर्चा होती है तो भारत के बुद्धिजीवी और साहित्यकार कालिदास के अधिक विलियम जोन्स की तारीफ करते हुए भावुक हो जाते हैं. फिरंगियों की गुलामी झेल रहे भारत में…

जब खट्टरकाका का कान कौआ ले गया

Vijay Deo Jha #खट्टरकाका की डायरी से चश्मा नहीं मिल पा रहा था. कुछ-कुछ याद आ रहा था कि ऑफिस से निकलते समय चश्मा तो मैंने पहना था, फिर कहां गया. तब चश्मा कहीं गिर गया. चश्मा तो कान के खोपचे पर टिका होता है, गिरने का सवाल ही नहीं है…

मैथिली अति प्राचीन व समृद्ध भाषा है, इस स्थापित सत्य को अब तर्क नहीं लट्ठ से समझाने का है समय

खट्टरकाका की चिट्ठी वीरेंद्र झा के नाम मैथिली अति प्राचीन व समृद्ध भाषा है. इस स्थापित सत्य को अब तर्क नहीं लट्ठ से समझाने का समय आ गया है क्योंकि जो मैथिली को हिंदी की बोली कह प्रचारित कर रहे हैं वो अज्ञानी नहीं बल्कि शातिर है. दैनिक…

अंग्रेजिया कॉलेजिया बाबू हो, बुद्धि, शिक्षा और संस्कार से च्युत हो, अगर तुम्हारा मूल-गोत्र व पुरखे…

"खट्टरकाका "की डायरी से Vijay deo jha खट्टारकका: आबह सी.सी. आई तोहर मोन किएक उतरल छौ। सी.सी. मिश्रा: मोन इसलिए झुंझुआन और कोनादन कर रहा है कि आई मधुबनी पेंटिंग से सज्जनित मधुबनी रेलवे स्टेशन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में स्थान…

गरियाने से मिथिला का विकास हो जाता है तो आईये हम सब मिलकर सियार की तरह हुँआ-हुँआ करें

"खट्टरकाका" की डायरी से Vijay deo jha हुलेले करने से अगर मिथिला राज बन जाता है मिथिला का विकास हो जाता है. बिना इतिहास की जानकारी रखे गरियाने से मिथिला का विकास हो जाता है तो आईये हम सब मिलकर सियार की तरह हुँआ-हुँआ करें. चुनाव का समय…