JamshedpurJharkhand

कैट ने केंद्रीय बजट को प्रगतिशील आर्थिक दस्तावेज बताया, वित्त मंत्री को 10 में से 8 नंबर दिये

Jamshedpur : कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत केंद्रीय बजट को एक व्यापक और प्रगतिशील बजट दस्तावेज बताया है. कैट के राष्ट्रीय सचिव सुरेश सोंथालिया ने मंगलवार को जारी अपने बयान में कहा है कि आम बजट से प्रत्येक क्षेत्र के विकास को सुनिश्चित करने के साथ व्यापार एवं लघु उद्योग के चरणबध्द विकास, स्वास्थ्य क्षेत्र और सेवाओं में मजबूत विकास के पैरामीटर्स को रेखांकित करता है. कुल मिला कर इसे एक संपूर्ण विकासशील बजट कहा जा सकता है. सोंथालिया ने कहा कि 5 लाख करोड़ रुपये के साथ ईसीजीएल योजना के विस्तार, पीएलआई योजना को विभिन्न क्षेत्रों से जोड़ने सहित कई नयी घोषणाओं से न केवल छोटी विनिर्माण इकाइयों, बल्कि व्यापारिक क्षेत्र का भी लाभ होगा. विनिर्माण सामान और उपभोग योग्य आय में वृद्धि से अर्थव्यवस्था को लाभ पहुंचेगा और व्यापार क्षेत्र में वित्तीय तरलता बढ़ने की बड़ी संभावनाएं मौजूद रहेंगी. सोंथालिया ने कहा है कि वर्तमान हालात में बजट के जरिये अर्थव्यवस्था को स्थिर रखने का प्रयास किया गया है. सोंथालिया ने कहा कि कोविड महामारी की पृष्ठभूमि में सरकार ने एक सर्वोत्तम संभव बजट देने की कोशिश की है.

जीएसटी, ई कॉमर्स और आयकर पर घोषणा न होने से निराशा

सोंथालिया ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रतिभा की सराहना करते हुए कहा कि वह भारी बाधाओं और घरेलू और वैश्विक चुनौतियों के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा परिकल्पित भारतीय अर्थव्यवस्था के एजेंडे को बजट के जरिये स्थापित करने में सफल रही हैं और देश के व्यापारी समुदाय की तरफ से 10 में से 8 अंक की हकदार हैं. सोंथालिया ने कहा कि हालांकि हमें खेद है कि जीएसटी कर ढांचे के सरलीकरण और युक्तिकरण के संबंध में कोई ठोस घोषणा नहीं की गयी है जो “एक बाजार-एक कर” के सिद्धांत के विपरीत है. साथ ही व्यापारियों के लिए आयकर को संबंधित कॉरपोरेट क्षेत्र के बराबर रखने की भी कोई घोषणा नहीं की गयी है. इसके साथ ही ई कॉमर्स में छायी मनमानी पर भी कोई बात न कहने से देश भर के व्यापारियों में बहुत निराशा है. सोंथालिया ने कहा कि कुल मिलाकर यह एक दूरदर्शी बजट है. युवाओं में बढ़ते उत्साह को देखते हुए डिजिटल करेंसी और क्रिप्टो मुद्रा को इस बजट में प्राथमिकता पर लिया गया है. 2 लाख आंगनबाड़ी और डिजिटल बैंकिंग का डिजिटलीकरण ग्रामीण क्षेत्रों को बेहतर तरीके से जोड़ेगा तथा उनके जरिये बाजार में पैसा आने की संभावनाएं बढ़ेंगी.

SIP abacus

इसे भी पढ़ें – प्राइवेट पार्ट में छिपाकर तस्कर दुबई से जयपुर लाया 25 लाख रुपये से ज्यादा का सोना

Sanjeevani
MDLM

Related Articles

Back to top button