Main SliderNational

लॉकडाउन में नहीं रुक रहा मजदूरों की मौत का मामला : घर लौट रहे 10 प्रवासी मजदूरों की मध्यप्रदेश में गयी जान

Bhopal :  कोविड- 19 को फैलने से रोकने के लिए लगाये गये लॉकडाउन के कारण अपने घर जा रहे 10 प्रवासी मजदूरों की पिछले 24 घंटे में मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर, बड़वानी, सागर और शाजापुर जिलों में मौत हो गई है जबकि 13 अन्य घायल हो गये हैं.

Jharkhand Rai

ये मजदूर महाराष्ट्र, कर्नाटक एवं तेलंगाना से उत्तर प्रदेश जा रहे थे. इनमें से पांच मजदूरों की मौत कथित रूप से भीषण गर्मी एवं अत्यधिक थकान के बाद तबीयत खराब होने के बाद हुई है, जबकि पांच मजदूरों की मौत एक ट्रक के नरसिंहपुर जिले में पलट जाने से हुई. इस सड़क हादसे में 13 अन्य मजदूर घायल भी हुए.

इसे भी पढ़ेंः #CoronaUpdates: हजारीबाग में कोरोना संक्रमण का नया केस मिला, झारखंड में मामले हुए 157

जिन पांच मजदूरों की भीषण गर्मी एवं अत्यधिक थकान के बाद तबीयत खराब होने के बाद हुई है, उनमें से तीन की मौत बड़वानी जिले में और एक-एक की मौत सागर एवं शाजापुर जिलों में हुई है.

Samford

नरसिंहपुर से मिली रिपोर्ट के अनुसार नरसिंहपुर जिले के मुंगवानी थाना क्षेत्र के ग्राम पाठा के पास शनिवार की रात करीब साढे 10 बजे आम से भरे एक ट्रक के पलट जाने से इसमें सवार पांच मजदूरों की मौत हो गई और 13 अन्य घायल हो गये.

नरसिंहपुर जिले के अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर ने रविवार को बताया कि हादसे के वक्त आम से भरे हुए इस ट्रक में करीब 20 प्रवासी मजदूर हैदराबाद से अपने घर उत्तर प्रदेश के एटा और झांसी जा रहे थे.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक :नरसिंहपुर: राजेश तिवारी ने बताया कि इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है तथा 13 अन्य घायल हुए हैं, जिन्हें नरसिंहपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घायलों में से दो की हालत नाजुक है.

इसे भी पढ़ेंः भारत बॉयोटेक कंपनी को जानिये, जिसके साथ मिलकर ICMR कर रही है कोरोना वैक्वेसीन का निर्माण

तिवारी ने बताया कि मजदूरों को आमों से भरे ट्रक में ले जाया जा रहा था. उन्होंने कहा कि मामले की विस्तृत जांच जारी है. ठाकुर ने बताया कि एक मजदूर में कोरोना वायरस के लक्षण भी मिले हैं इसलिए सभी मजदूरों के नमूने लेकर जांच कराई जा रही है.

वहीं, सागर से मिली रिपोर्ट के अनुसार सागर जिले के सागर-कानपुर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 86 पर शनिवार शाम को बंडा तहसील के बरा चौराहे पर कर्नाटक के किसी क्षेत्र से पैदल ही उत्तर प्रदेश स्थित अपने घर की ओर जाते समय एक व्यक्ति अचानक ही सड़क पर बेसुध होकर गिर गया. घटनास्थल पर मौजूद नागरिक उसे बंडा अस्पताल ले गये, जहां चिकित्सक ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया.

सागर जिले के पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने बताया कि मृतक के पास मिले आधार कार्ड पर मिली जानकारी के उसका नाम रामबली (31) है और वह उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थ नगर का निवासी है.

उन्होंने कहा कि घटना के बारे में पुलिस ने उसके परिवार वालों को सूचित कर दिया है.
सांघी ने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. इसी बीच, शाजापुर से मिली रिपोर्ट के अनुसार शाजापुर जिला मुख्यालय से लगभग 15 किलोमीटर दूर एबी रोड़ पर ग्राम रोजवास के निकट कल देर शाम उत्तर प्रदेश के एक प्रवासी मजदूर की बीमारी से मौत हो गयी.

शाजापुर जिले के मक्सी पुलिस थाना प्रभारी आदित्य तिवारी ने बताया कि शनिवार शाम लगभग पांच बजे महाराष्ट्र से अपने घर उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के बहाटतिया निवासी रामरूप (35) की बीमारी से मौत हो गयी. उन्होंने कहा कि वह अपने परिजनों के साथ एक वाहन से उत्तर प्रदेश की ओर जा रहा था. उसी दौरान उसकी तबियत खराब हो गई और वाहन चालक ने उसे उतार दिया, जहां पर कुछ समय बाद उसकी मौत हो गयी.

तिवारी ने बताया कि मक्सी पुलिस को जानकारी मिलने पर देर रात उसके शव को शाजापुर जिला चिकित्सालय भिजवाया गया, जहां पर आज उसका पोस्टमॉर्टम किया जाएगा.  उन्होंने कहा कि मक्सी पुलिस थाने ने मामले का प्रकरण दर्ज कर लिया है.

वहीं, बड़वानी से मिली रिपोर्ट के अनुसार मुंबई से उत्तर प्रदेश पैदल जा रहे तीन प्रवासी मजदूरों की शनिवार की दोपहर को मौत हो गई. बड़वानी जिले के सेंधवा पुलिस थाना प्रभारी डी एस परिहार ने बताया कि इन तीनों उम्र 42 से 55 वर्ष के बीच थी और जब ये महाराष्ट्र की सीमा पर कर मध्य प्रदेश में सेंधवा के पास पहुंचे तो इन्होंने दम तोड़ दिया.

उन्होंने कहा कि ये तीनों प्रवासी मजदूर थे और महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश जा रहे थे.
परिहार ने बताया कि इनके साथ चल रहे प्रवासी मजदूर इनमें से दो लोगों को सेंधवा सिविल अस्पताल ले गये, जबकि एक व्यक्ति को दूसरे अस्पताल में ले गये, जहां उनकी स्थिति अत्यधिक खराब होने के कारण उनकी मौत हो गई.

सेंधवा सिविल अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि भीषण गर्मी से इनके शरीर में पानी की कमी होने और अत्यधिक थकान के कारण इनकी मौत होने की आशंका है. हालांकि, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इनकी मौत के सही कारण का पता चल सकेगा.

इसे भी पढ़िये :  #E-Pass वेबसाइट से गिरिडीह के लोगों को बड़ी मुश्किल से मिल रहा लाभ, साइट खुलने में भी परेशानी

 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: