Court NewsJharkhandMain SliderRanchi

तब्लीगी जमात के 17 विदेशियों समेत 18 लोगों को रिहा करने का कोर्ट ने दिया आदेश

विज्ञापन

Ranchi: रांची सिविल कोर्ट ने सोमवार को तब्लीगी जमात के 17 विदेशियों सहित 18 लोगों पर केस खत्म करते हुए उन्हें रिहा करने का आदेश दिया है.

सीजेएम कोर्ट ने तब्लीगी जमात के 17 विदेशियों और हिंदपीढ़ी निवासी एक व्यक्ति के चार्जफ्रेम पर सुनवाई की जिसमें मात के 17 आरोपियों ने अपने देश लौटने की इच्छा जतायी.

मामले में पैरवी करते हुए हाइकोर्ट के वरीय अधिवक्ता ए अल्लाम ने कोर्ट से कहा कि 31 अगस्त को डिस्चार्ज पिटीशन पर सुनवाई के दौरान इनके खिलाफ लगे द फॉरेन एक्ट 1946 की धारा 13/14 (बी) (सी) और आइपीसी की धारा 270, 271 सहित कई धाराएं हटा ली गयी हैं. ये लोग तीन माह से अधिक जेल में रह चुके हैं. इसलिए इन पर जुर्माना लगाते हुए मामले (केस) को खत्म कर दिया जाये.

advt

इसपर कोर्ट ने तब्लीगी जमात के 17 लोगों में प्रत्येक को 2200- 2200 रुपये जुर्माना जमा कर रिहा करने का आदेश देते हुए केस को खत्म कर दिया. कोर्ट ने इनपर आइपीसी की धारा 269 के तहत एक-एक हजार रुपये का जुर्माना, आइपीसी की धारा 290 के तहत 200-200 रुपये का जुर्माना तथा एपिडेमिक डिजीज एक्ट की सेक्शन बी के तहत एक-एक हजार रुपये का जुर्माना लगाया.

इसे भी पढ़ें – सीएम के हाथों झारखंड को मिलेगी 3 सौगातें: फूलो झानो आशीर्वाद योजना, आशा और पलाश से खुलेगी तरक्की की राह

ये हुए हैं रिहा

रिहा होने वालों में यूके का महासीन अहमद, काजी दिलावर हुसैन, लंदन का जाहिद कबीर, शिपहान हुसैन खान, वेस्टइंडीज का फारूख अल्बर्ट खान, हॉलैंड का मो सैफुल इस्लाम, त्रिनिदाद का नदीम खान, जांबिया का मूसा जालाब, फरमिंग सेसे,  मलेशिया का सिति आयशा बिनती, नूर रशीदा बिनती,  नूर हयाती बिनती अहमद, नूर कमरूजामा, महाजीर बीन खामीस, मो शफीक और मो अजीम तथा रांची के हाजी मेराज शामिल हैं. कोर्ट ने रांची के हिंदपीढ़ी निवासी हाजी मेराज के खिलाफ कुल 6200 रुपये का जुर्माना लगाया.

उल्लेखनीय है कि रांची पुलिस ने 30 मार्च को हिंदपीढ़ी बड़ी मस्जिद एवं मदीना मस्जिद में रह रहे तब्लीगी जमात के 17 विदेशियों को गिरफ्तार किया था. इसमें चार महिलाएं भी शामिल थी. एक रांची के व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया गया था.

adv

इसे भी पढ़ें – World Heart Day: कोरोना संक्रमित मरीजों में बढ़ रहा है हार्ट अटैक का खतरा, देखिये क्या कह रहें एक्सपर्ट

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button