न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सावधान ! रात में जंक फुड खाना हो सकता है खतरनाक

जीवनभर स्वास्थ्यवर्धक खानपान और स्वस्थ आदतों को अपनाना जरुरी है.

107

NW Desk : सेहतमंद रहने के लिए हम सभी को अच्छा खाना खाने की बहुत आवश्यकता है. पूरे जीवनभर स्वास्थ्यवर्धक खानपान और स्वस्थ आदतों को अपनाना भी जरुरी है. जंक फूड स्वाद के मामले में अच्छा होता है, जिसके कारण सभी आयु वर्ग के लोग इसे बहुत ही चाव से खाते है. खासकर स्कूल व कॉलेज जाने वाले बच्चों के लिए यह सबसे पसंदीदा भोजन होता है. एक शोध में पाया गया है कि जंक फुड स्वास्थ्य पर कई तरीकों से नकारात्मक प्रभाव डालते है. तले हुए भोजन पैक किए होते हैं, फिर बाजार में मिलते हैं. इनमें कैलोरी और कॉलंस्ट्रॉल, सोडियम खनिज, शुगर, स्ट्रॉच, वसा की अधिकता और पोषक तत्वों और प्रोटीन के तत्वों की भारी कमी होती है.

इसे भी पढ़ें : रांची के अपराधी नहीं लगाते हैं हर दिन थाने में हाजिरी

जंक फुड से करें परहेज

बच्चों को खाने की अच्छी आदतों के बारे में सिख देना बेहद जरुरी है. साथ ही सेहत पुर्ण वर्धक भोजन और जंक फूड में अन्तर को भी बताना चाहिए. अगर आपके बच्चों को रात में जंक फूड खाने की आदत है तो इस आदत को बदलने की जरुरत है. क्योंकि इससे सेहत को नुकसान पहुंचता है तथा यह बच्चों की नींद में भी कमी ला सकती है. जो मोटापे को दावत भी देता है. एक शोध से पता चला है कि नींद की खराब गुणवत्ता का कारण ज्यादा जंक फूड खाना भी हो सकता है. मोटापा, मधुमेह व दूसरे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी ज्यादा जंक फुड खाने से हो सकती है.

silk_park

इसे भी पढ़ें : बिहार : तेजस्वी ने भाजपा सांसद के पैर धोकर पीने की निंदा की 

आंकड़ों के आधार पर विश्लेषण

अमेरिका के टक्सन स्थित एरिजोना विश्वविद्यालय में मनोचिकित्सा विभाग के माइकल ए ग्रैंडनर ने कहा कि प्रयोगशाला में किए गए अध्ययन में पता चला है कि रात में जंक फूड खाने की आदत से नींद में कमी आ सकती है, इससे मोटापा भी बढ़ सकता है. ग्रैंडनर के अनुसार खराब नींद, जंक फूड की लालच और रात के समय अस्वास्थ्यकर नाश्ता आपके मोटापे के कारण हो सकता है. इस अध्ययन को बाल्टीमोर में एसोसिएटेड प्रोफेसनल स्लीप सोसायटीज एलएलसी (एपीएसएस) की 32वीं वार्षिक बैठक में प्रस्तुत किया गया. इसमें 3,105 वयस्कों द्वारा लिए गए आंकड़ों का विस्तारपूर्वक विश्लेषण किया गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: