न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

क्राइम कैपिटल बनी राजधानी रांची, पिछले 9 माह में सबसे अधिक हत्याएं

पिछले 9 माह में कोडरमा में सिर्फ 12 हत्याएं हुई है.

30

Saurav Singh

Ranchi : झारखंड की राजधानी रांची को अगर अपराध की राजधानी कहा जाए तो इसमें कोई संदेह की बात नहीं है. जिस तरह से राजधानी रांची में अपराधियों का मनोबल बढ़ा हुआ है. अपराधी जिस तरह से अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं, उससे तो साफ जाहिर होता है कि राजधानी को अपराध की राजधानी कहा जा सकता है. इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले 9 महीने के अंदर राजधानी रांची में 138 हत्याएं हुई है. जो कि सूबे के सभी जिले से कहीं ज्यादा है. हत्या के मामले में कोडरमा सबसे नीचे है. पिछले 9 महीने में कोडरमा में सिर्फ 12 हत्याएं हुई है.

इसे भी पढ़ें : कैसे बनेगा वीजा? नहीं मिल रहा है येल्लो फीवर का टीका

जुलाई महीने में सबसे अधिक हत्याएं

राजधानी रांची में अपराधी एक के बाद एक आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. अपराधी लूट, चोरी, छिनतई और हत्या जैसी घटनाओं को कहीं भी अंजाम देकर आसानी से फरार हो जाते हैं. अगर देखा जाए तो सिर्फ राजधानी में पिछले 9 महीने के अंदर जुलाई महीने में सबसे अधिक यानि 26 हत्याएं हुई है. रांची पुलिस हत्या के ज्यादातर मामलों में खुलासा नहीं कर पा रही है. हर घटना घटित होने के बाद पुलिस कहती अपराधी जल्द गिरफ्तार कर लिए जाएंगे. उनकी पहचान कर ली गई है. लेकिन पुलिस अपराधियों की गिरफ्तार नहीं कर पाती है.

इसे भी पढ़ें : 61 वर्षों से चतरा संसदीय क्षेत्र पर बाहरी का राज, क्या 2019 में बदलेगाी तस्वीर?

पुलिस की कार्यशैली पर उठ रहे हैं सवाल

पिछले 9 महीने में रांची में हत्या की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. इस तरह की घटना ने पुलिस-प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल खड़ा कर दिया है. मौजूदा समय में 30 पीसीआर, 15 हाइवे पेट्रोल मुस्तैाद हैं. 50 मोटरसाइकिल पर 100 टाइगर के मोबाइल सुरक्षा के लिए लगाए गए हैं. 20 स्कूटी पर 40 शक्ति कमांडो मिली हैं. 47 बीट के अफसर मिले हैं. 20 बाइक दस्ता इतने संसाधन मिलने के बावजूद भी ऐसी घटनाओं पर रोक नहीं लग पा रहे है.

इसे भी पढ़ें : पिपरवार गोलीकांड की हो सीबीआई जांच: हाईकोर्ट

पिछले 9 महीने की कुछ चर्चित हत्याएं

02 मार्च : बरियातू के हरिहर सिंह रोड में शिवा लोहरा की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

palamu_12

05 मार्च : तुपुदाना क्षेत्र में एक युवक की हत्या, जला कर शव फेंका. हत्यारे का का सुराग तक नहीं मिला.

15 मार्च : चुटिया थाना क्षेत्र में घर में घुसकर अरुण नाग की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

24 अगस्त : रातू रोड में बीटेक छात्र राकेश यादव की प्रेम प्रसंग में  गोली मारकर हत्या एक अपराधी हिमांशु दुबे गिरफ्तार, बाकी चार अपराधी फरार.

07 सितंबर : सीएम हाउस के सामने पूर्व एसपीओ बुधु दास की गोली मारकर हत्या पुलिस ने  शूटर की पहचान कर लेने का दावा किया है लेकिन किसी गिरफ्तारी नहीं.

5 अक्टूबर : चावल व्यवसायी नरेंद्र सिंह होरा को अपराधियों ने कि गोली मारकर हत्या

इसे भी पढ़ें : जेपीएससी लेक्चरर नियुक्ति : CBI ने विवि प्रबंधन से फिर पूछा, किस आधार पर हुई व्याख्याताओं की सेवा…

किन जिलों में कितनी हत्याएं 

रांची 130, गिरिडीह 105, धनबाद 79 ,बोकारो 67 ,दुमका 51 ,गोड्डा 51, जामताड़ा 35, देवघर 58, साहबगंज 61, पाकुड़ 40, चतरा 53, कोडरमा 12, रामगढ़ 25, खूंटी 63, गुमला 87, सिमडेगा 42 , लोहरदगा 27, चाईबासा 88, सरायकेला खरसावां 60, जमशेदपुर 75, पलामू 86, लातेहार, 40 गढ़वा 78, हजारीबाग 72

पिछले 9 महीने में पूरे झारखंड में 1433 हत्याएं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: