Opinion

CAN YOU BELIEVE IT सिर्फ एक साल में 1.48 लाख करोड़ रुपये की धोखाधड़ी

Girish Malviya

असली घोटाले तो ठीक हमारी नाक के नीचे हमारे खून पसीने से जमा रकम में किये जा रहे हैं. लेकिन अब बस वो एक छोटी सी खबर बनकर रह गए हैं. क्या आप जानते हैं कि वर्ष 2019-20 में बैंको के साथ जो विभिन्न तरह की धोखाधड़ी हुई है, उसमें टोटल कितनी रकम का घोटाला हुआ है. यह रकम इस साल डेढ़ लाख करोड़ के आसपास जा पहुंची है. जबकि आज से 7 साल पहले मनमोहन सिंह के काल मे वर्ष 2013-14 में यह रकम मात्र 10 हजार 70 करोड़ रुपए ही थी.

अब एक बार जरा मोदी राज के 6 सालो में हुए बैंकिंग फ्रॉड की रकम पर नजर डालिए. आप इनका डबलिंग रेट देख कर हैरान रह जाएंगे.

– वर्ष 2014-15 में 19 हजार 361 करोड़ रुपये.

– वर्ष 2015-16 में 18 हजार 698 करोड़ रुपये.

– वर्ष 2016-17 में 23 हजार 984 करोड़ रुपये.

– वर्ष 2017-18 में 41 हजार 167 करोड़ रुपये.

– वर्ष 2018-19 में 71 हजार 500 करोड़ रुपये.

– वर्ष 2019 -20 में 1 लाख 48 हजार 427 करोड़ रुपये.

पिछले 11 वित्त वर्ष में बैंक फ्रॉड के कुल 53,334 मामले प्रकाश में आये हैं, जबकि इनके जरिये 2.05 लाख करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई थी. जबकि इस वर्ष 2019-20 के साल में सिर्फ 12461 मामलों में 1 लाख 48 हजार 427 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी दर्ज की गयी है.

यह जानकारी कल नीमच निवासी मित्र चंद्रशेखर गौर जो देश के जाने माने आरटीआइ कार्यकर्ता है, उनकी आरबीआइ में लगाई गई आरटीआइ में सामने आई है.

ये उस सरकार के हाल है जो न खाऊंगा, न खाने दूंगा की बात करती है.

इन घोटालो की रकम में हुई वृद्धि में बहुत बड़ा रोल अब डिजिटल इकोनॉमी का है जो बिना साईबर सुरक्षा कानून के लागू की जा रही है. नोटबंदी के बाद देश में डिजिटल इकोनॉमी का जोर बढ़ने लगा और बैंक फ्रॉड की रकम भी दिन दूनी रात चौगुनी की रफ्तार से बढ़ने लगी.

कोरोना की वजह से साल वर्ष 2021 तक देश में डिजिटल लेनदेन चार गुना तक बढ़ने की उम्मीद है, यानी इस साल यह रकम और भी बढ़ेगी.

डिस्कलेमरः ये लेखक के निजी विचार हैं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: