न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छत्तीसगढ़ में पहले चरण के लिए प्रचार अभियान समाप्त,12 नवंबर को मतदान

24

Raipur : छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए शनिवार शाम चुनाव प्रचार समाप्त हो गया. पहले चरण के लिए इस महीने की 12 तारीख को मतदान होगा. अंतिम दिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य में चुनाव प्रचार किया. राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि पहले चरण के लिए 12 नवम्बर को होने वाले मतदान के लिए शनिवार शाम पांच बजे तक प्रचार थम गया. उम्मीदवार अब केवल व्यक्तिगत प्रचार और घर-घर जनसंपर्क कर सकेंगे. राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र के सात जिले कांकेर, कोंडागांव, बस्तर, नारायणपुर, बीजापुर, दंतेवाड़ा, सुकमा और राजनांदगांव के 18 विधानसभा क्षेत्रों में 12 नवंबर को मतदान होगा.

इसे भी पढ़ें-बोकारो : एटीएम का डाटा चुराकर पैसा निकाले वाले गिरोह का भंडाफोड़, एक गिरफ्तार

सुबह सात बजे से दोपहर बाद तीन बजे तक मतदान

अधिकारियों ने बताया कि 10 विधानसभा क्षेत्रों मोहला मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, केसकाल, कांकेर, कोंडागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोंटा विधानसभा क्षेत्रों में सुबह सात बजे से दोपहर बाद तीन बजे तक मतदान होगा. वहीं खैरागढ़, डोंगरगढ़, राजनांदगांव, डोंगरगांव, खुज्जी, बस्तर, जगदलपुर और चित्रकोट में सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक मतदान होगा. उन्होंने बताया कि चुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान दलों को रवाना कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुगम मतदान के लिए सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं. संवेदनशील मतदान केन्द्रों तक मतदान दलों को लाने-ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर की व्यवस्था की गई है. बेहतर सुरक्षा के लिए राज्य और केंद्रीय सुरक्षा बलों के जवान पर्याप्त संख्या में तैनात किए गए हैं.

इसे भी पढ़ें-जुर्माना लगने पर भी नहीं सुधर रहे चालक, बिना परमिट के एमजी रोड में दौड़ा रहे हैं 250 ई-रिक्शा

ज्यादा राजनांदगांव विधानसभा सीट में 30 उम्मीदवार

अधिकारियों ने बताया कि राज्य में पहले चरण में 190 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला राज्य के 3179520 मतदाता करेंगे. जिनमें से 1621839 पुरूष मतदाता तथा 1557592 महिला मतदाता हैं. वहीं 89 तृतीय लिंग के मतदाता हैं. प्रथम चरण के लिए 4336 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में सबसे ज्यादा राजनांदगांव विधानसभा सीट में 30 उम्मीदवार तथा सबसे कम पांच पांच उम्मीदवार बस्तर और कोंडागांव सीट में हैं. प्रथम चरण में मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके मंत्रिमंडल के दो सदस्य चुनाव मैदान में है. मुख्यमंत्री सिंह राजनांदगांव से चुनाव लड़ रहे हैं तथा उनके खिलाफ कांग्रेस की करूणा शुक्ला है. शुक्ला पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी हैं.

इसे भी पढ़ें-चेक देने के एवज में छात्रों से मांगा कमीशन, अभिभावकों ने किया हंगामा

2013 में भाजपा इनमें से केवल छह सीट ही जीत थे

प्रथम चरण में भाजपा की ओर से मंत्री महेश गागड़ा :बीजापुर: और केदार कश्यप :नारायणपुर: चुनाव मैदान में हैं. वहीं दो विधायक जगदलपुर से संतोष बाफना और डोंगरगढ़ से सरोजनी बंजारे हैं. वहीं कांग्रेस की ओर से विधायक भानुप्रतापपुर से मनोज सिंह मंडावी, कोंडागांव से मोहन लाल मरकाम, बस्तर से लखेश्वर बघेल, केसकाल से संतराम नेताम, चित्रकोट से दीपक कुमार बैज, दंतेवाड़ा से देवती कर्मा, कोंटा से कवासी लखमा, खैरागढ़ से गिरवर जंघेल और डोंगरगांव से दलेश्वर साहू चुनाव मैदान में हैं.
प्रथम चरण के 18 विधानसभा सीटों में से 12 सीट अनुसूचित जनजाति के लिए तथा एक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. वर्ष 2013 में हुए चुनाव में भाजपा इनमें से केवल छह सीट ही जीत पाई थी.

इसे भी पढ़ें-पांचवीं अनुसूची पर सुलगते सवालों का जवाब नहीं सूझा एक्सपर्ट सुभाष कश्यप को, सचिव ने किया प्रोग्राम…

नक्सलियों ने पिछले 15 दिनों में तीन बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया

राज्य में दूसरे चरण के 72 सीटों के लिए इस महीने की 20 तारीख को मतदान होगा. राज्य में हो रहे विधानसभा चुनाव का नक्सलियों ने विरोध किया है और लगातार नक्सली घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. नक्सलियों ने पिछले 15 दिनों में तीन बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया है. इस महीने की आठ तारीख को नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर एक यात्री बस को उड़ा दिया था. इस घटना में चार नागरिक और केंदीय औद्योगिक सुरक्षा बल के एक जवान की मृत्यु हो गई थी.

इससे पहले नक्सलियों ने 30 अक्टूबर को दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर में पुलिस दल पर हमला कर दिया था. इस घटना में दूरदर्शन के एक कैमरामैन और तीन पुलिस जवानों की मृत्यु हो गई थी. वहीं 27 अक्टूबर को नकसलियों ने बीजापुर जिले आवापल्ली थाना क्षेत्र में सीआरपीएफ के बुलेट प्रुफ बंकर को उड़ा दिया था. इस घटना में सीआरपीएफ के चार जवानों की मृत्यु हो गई थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: