NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खरीद-फरोख्त में संलिप्त सभी लोगों के कॉल डिटेल्स की जांच हो : झाविमो

114

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

steel 300×800

Ranchi : विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले से संबंधित पत्र को मीडिया में सार्वजनिक किये जाने के बाद झाविमो से टूटकर भाजपा में गये दो विधायकों द्वारा थाने में शिकायत की गयी थी. इस शिकायत के बाद से झाविमो द्वारा भाजपा पर लगतार प्रहार जारी है. झाविमो के केंद्रीय प्रवक्ता योगेंद्र प्रताप सिंह ने प्रेस बायन जारी करते हुए कहा है कि झाविमो ने विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े पत्र में उल्लेखित सभी 20 लोगों के कॉल डिटेल्स की जांच करने की मांग की है. योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि पत्र के अनुसार खरीद-फरोख्त में छह विधायक सहित कुल 20 नेता शामिल हैं. झाविमो राज्य सरकार से मुख्यमंत्री सहित उक्त सभी लोगों के निजी मोबाइल नंबर, उनके पीए और उनके चालकों के मोबाइल नंबर का 01 जनवरी 2015 से लेकर 10 फरवरी 2015 की अवधि तक के मोबाइल कॉल डिटेल्स की जांच की मांग करती है. इससे ही भाजपा पूरी तरह बेपर्दा हो जायेगी.

उन्होंने कहा कि सवाल उठता है कि भाजपा आखिर सीबीआई जांच से डर क्यों रही है? सरकार इसकी अनुशंसा कर दूध का दूध और पानी का पानी क्यों नहीं करती? खुद जज बनकर पत्र को फर्जी करार देकर भाजपा केवल बयानबाजी कर रही है. अब सीबीआई जांच की अनुशंसा तो राज्य सरकार को ही न करनी है, फिर किसका इंतजार किया जा रहा है? सभी संलिप्त भाजपाई जाकर सीएम से गुहार क्यों नहीं लगाते कि उनपर लगे दाग को सीबीआई जांच करवाकर धुलवाया जाये? योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि हालांकि, बाबूलाल जी ने पहले ही कह दिया है कि भाजपा के दामन पर इतने दाग हैं कि दुनिया का कोई साबुन इसे नहीं धो सकता है.

इसे भी पढ़ें- झामुमो की हैसियत नहीं कि अमित शाह से सवाल पूछे : प्रतुल शाहदेव

pandiji_add

जांच कराने की बजाय केवल बयानबाजी कर रही भाजपा

योगेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि जांच कराने की बजाय भाजपा केवल बयानबाजी कर व झाविमो अध्यक्ष पर फर्जी मुकदमा कर आईवॉश कर रही है. उन्होंने कहा कि हास्यास्पद बात है कि विधायक भी थाना को दिये गये आवेदन में खुद ही भादवि की धारा तक अंकित कर दे रहे हैं. थानेदार का काम और कुछ आसान हो जाता, अगर केस डायरी भी विधायक घर ले जाकर ही भर लेते. सत्ता के दुरुपयोग का इससे बड़ा उदाहरण और क्या हो सकता है कि एक बरामद पत्र का हवाला देकर जिन लोगों पर कार्रवाई के लिए राज्यपाल से मिला जाता है, उन लोगों पर अभी तक कोई कार्रवाई तो हुई नहीं, उल्टा जांच की मांग करनेवाले पर ही उन लोगों से राज्य सरकार के इशारे पर फर्जी मुकदमा करा दिया गया. उन्होंने कहा कि झाविमो अध्यक्ष पर फर्जी केस कराकर और गीदड़भभकी देकर भाजपा सोच रही है कि झाविमो इस मुद्दे पर चुप हो जायेगा, तो वह मुगालते में है. पत्र की सत्यता की जांच तो सरकार को करानी ही होगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Hair_club

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.