NEWS

कलकत्ता हाइकोर्ट का निर्देश: पढ़ाई की खातिर मेदिनीपुर जेल से कैदी को दूसरी जेल में किया जाये शिफ्ट

विज्ञापन

Kolkata: कलकत्ता हाइकोर्ट ने मेदिनीपुर जेल में हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे युवक को प्रेसीडेंसी जेल में स्थानांतरित करने का निर्देश दिया है ताकि वह स्नातक की पढ़ाई पूरी कर सके.

सोमनाथ चक्रवर्ती नामक 27 साल के कैदी की मां कल्याणी देवी ने इस बाबत हाइकोर्ट में गुहार लगायी थी.

इसे भी पढ़ें – तस्वीरों में कैद हुई चीन की नापाक हरकत, गलवान जैसी घटना को देना चाहते थे अंजाम, भारतीय सेना ने खदेड़ा

स्नातक की पढ़ाई के लिए मेदिनीपुर जेल प्रबंधन से किया गया था अनुरोध

सोमनाथ ने स्नातक की पढ़ाई की व्यवस्था के लिए मेदिनीपुर जेल प्रबंधन से अनुरोध किया था, जिसपर जेल प्रबंधन की ओर से कहा गया था कि सारी पाठ्य सामग्रियां उसके परिवार के लोगों को ही उपलब्ध करानी होगी.

इसपर कल्याणी देवी ने कहा था कि उनके लिए नियमित रूप से कोलकाता से मेदिनीपुर जाकर पाठ्य सामग्रियां उपलब्ध कराना संभव नहीं होगा इसलिए उनके बेटे को कोलकाता के प्रेसीडेंसी जेल में स्थानांतरित कर दिया जाये.

कारा विभाग और मेदिनीपुर जेल प्रबंधन के पास आवेदन, नहीं मिला जवाब

उन्होंने इस बाबत कारा विभाग और मेदिनीपुर जेल प्रबंधन के पास आवेदन किया था लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला. उसके बाद उन्होंने हाइकोर्ट में गुहार लगायी.

न्यायाधीश विवेक चौधरी की पीठ ने कहा कि जेल में बंद एक युवक शिक्षा अर्जित करना चाहता है. संबंधित प्राधिकरण को उसकी मदद करनी चाहिए. उन्होंने सोमनाथ को एक महीने के अंदर प्रेसिडेंसी जेल में स्थानांतरित करने का निर्देश दिया.

adv

इसे भी पढ़ें – कोरोना की जांच कराये बिना झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र में भाग नहीं ले सकेंगे विधायक, पत्रकारों को भी कराना होगा टेस्ट

सात साल हावड़ा कोर्ट ने उम्रकैद की सजा दी, सोमनाथ को मेदिनीपुर जेल भेजा

गौरतलब है कि सोमनाथ को सात साल हावड़ा कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनायी थी. उसे मेदिनीपुर जेल भेज दिया गया था. सोमनाथ ने वहीं से उच्च माध्यमिक की परीक्षा पास की.

सोमनाथ की मां ने बताया कि 2011 में वह माकपा की महिला समिति की नेत्री थी. उस समय कुछ लोगों ने उनके घर पर हमला कर दिया था. उनकी जान बचाने में उनके बेटे के हाथ से एक बदमाश की मौत हो गयी.

हावड़ा कोर्ट ने उनके बेटे को उम्रकैद की सजा सुनायी, जिसके खिलाफ उन्होंने हाइकोर्ट में मामला किया है और उसपर सुनवाई चल रही है.

इसे भी पढ़ें – कोडरमा में जिला प्रशासन ने दुकानदारों की कोरोना जांच के लिए लगाया कैंप, डर से दुकान बंद कर गायब रहे दुकानदार

advt
Advertisement

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button