न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

CAG ने खोली राजे सरकार की पोलः 5 गुना बढ़ाकर बताई गई नौकरी देने की संख्या

16 लाख युवाओं को रोजगार देने का सीएम ने किया दावा

323

Jodhpur: युवाओं को रोजगार देने के अपने वायदे को पूरा नहीं कर पायी राजस्थान सरकार अब आंकड़ों से खेल रही है. अमूमन विपक्ष सरकार के इन आंकड़ों के खेल का पर्दाफाश करती है. लेकिन इस बार सरकारी दावों की पोल सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में खोली है.

इसे भी पढ़ेंः सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा – मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

दरअसल, सीएम वसुंधरा राजे ने कुछ दिनों पहले एक चुनावी रैली में दावा किया कि उनके शासनकाल में कुल 16 लाख युवाओं को स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग देकर रोजगार दिलवाए गए. लेकिन सीएजी ने इन दावों पर सवाल उठाये हैं.

16 लाख को युवाओं को मिला रोजगार- वसुंधरा राजे

राजस्थान में इस साल के आखिर में चुनाव होने हैं. ऐसे में सरकार अपने कामों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रही है. कुछ ऐसा ही एक दावा मुख्यमंत्री राजे ने किया है. जिसमें उन्होंने राज्य के 16 लाख युवाओं को स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग देकर रोजगार देने की बात कही. सीएम ने दावा किया कि उनकी सरकार ने बेरोजगारों को 3.25 लाख सरकारी नौकरियां मिली. जिनमें से 1.35 लाख नौकरियां अभी सरकारी प्रक्रिया में है. सीएम ने ये भी दावा किया कि उनकी सरकार ने राजस्थान में करीब 20 लाख लोगों को मुद्रा योजना के जरिए स्वरोजगार मुहैया कराए हैं. जिनमें से मीणा समुदाय के लोगों को भी लाभ पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें – एक्शन में सीपी सिंह ! अपनी ही सरकार पर गरजे, कहा- पुलिस सहायता केंद्र का नाम बदलकर पुलिस…

सीएजी ने दावे पर उठाये सवाल

लेकिन इन दावों की पोल सीएजी रिपोर्ट में खुलती दिख रही है. इस महीने राजस्थान विधान सभा के पटल पर रखी गई इस रिपोर्ट में राजस्थान स्किल एंड लाइवलीहुड डेवलपमेंट कॉपोरेशन द्वारा साल 2014 से 2017 के बीच उपलब्ध कराए गए रोजगार के आंकड़ों पर संदेह जताया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि 1,27,817 युवाओं में से 42,758 को नौकरी देने का दावा किया जा रहा है. लेकिन फिजिकल वेरिफिकेशन में यह सामने आया है कि मात्र 9,904 युवाओं को नौकरी मिली है.

इसे भी पढ़ें – लगाये गए 18 करोड़ पौधे, 7 जिलों में एक ईंच नहीं बढ़े जंगल

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि राज्य में कौशल विकास के जरिए बेरोजगारी की समस्या को तुरंत दूर किए जाने की आवश्यकता है. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी (सीएमईआई) के मुताबिक, राजस्थान में बेरोजगारी की दर 9.8 पर्सेंट है, जबकि देश के लिए बेरोजगारी दर मात्र 6.4 पर्सेंट है.

वही बेरोजगारी के मुद्दे पर कांग्रेस ने कहा कि वसुंधरा सरकार ने उन लोगों को भी रोजगार के लाभार्थियों की सूची में शामिल कर लिया है जो अपने बूते किसी प्रकार कहीं सब्जी बेच रहे हैं या किसी अन्य माध्यम से जीवकोपार्जन कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें –  कई IAS जांच के घेरे में, प्रधान सचिव रैंक के अफसर आलोक गोयल की रिपोर्ट केंद्र को भेजी, चल रही विभागीय कार्रवाई

उल्लेखनीय है कि 2013 के चुनाव के दौरान वसुंधरा राजे ने वादा किया था कि उनकी सरकार बनी तो राज्य में 15 लाख लोगों को नौकरियां दी जाएंगी. रोजगार के लुभावन वादे पर उन्हें युवाओं का खूब साथ भी मिला था. 200 सदस्यों वाली विधानसभा में तब बीजेपी को 163 सीटें मिली थीं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: