न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मंत्रिमंडल ने तीन तलाक विधेयक को मंजूरी दी, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने की घोषणा

1,916

New Delhi:  मंत्रिमंडल ने तीन तलाक विधेयक को मंजूरी दे दी है. संसद में पारित होने के बाद तीन तलाक विधेयक इस साल की शुरुआत में लागू अध्यादेश की जगह लेगा. गौरतलब है कि पिछले महीने 16वीं लोकसभा भंग होने के साथ यह विवादित विधेयक निष्प्रभावी हो गया था क्योंकि यह संसद द्वारा पारित नहीं हो सका और यह राज्यसभा में लंबित था.

बता दें कि राज्यसभा में पेश विधेयक लोकसभा भंग होने के बाद भी निष्प्रभावी नहीं होते हैं. लोकसभा द्वारा पारित और राज्यसभा में लंबित विधेयक हालांकि निष्प्रभावी हो जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंः गिरिडीह : मेयर के बाडीगार्ड ने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली, मामला संदिग्ध

विपक्ष करता रहा है विरोध

यह भी उल्लेखनीय है कि विपक्ष राज्यसभा में विधेयक के प्रावधानों का विरोध करता रहा है और राज्यसभा में सरकार के पास संख्याबल की कमी है. एक बार में तीन तलाक की परंपरा को दंडनीय अपराध बनाने वाले मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक का विपक्षी दलों ने विरोध किया.

विपक्ष का दावा है कि अपनी पत्नी को तलाक देने वाले पति के लिए जेल की सजा कानूनी रूप से टिकाऊ नहीं है.

SMILE

इसे भी पढ़ेंः बिरसा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के पीएचडी व पीजी कोर्स में नामांकन प्रक्रिया शुरू

क्या प्रावधान है विधेयक में

मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अध्यादेश 2019 के तहत, एक बार में तीन तलाक गैरकानूनी और शून्य रहेगा और ऐसा करने वाले पति के लिए तीन साल के कारावास का प्रावधान रहेगा.

सितंबर 2018 में लागू पिछले अध्यादेश को कानून में बदलने के लिए पेश विधेयक को दिसंबर में लोकसभा ने तो मंजूरी दे दी थी लेकिन यह राज्यसभा में लंबित था. विधेयक के संसद के दोनों सदनों से मंजूरी नहीं मिलने पर नया अध्यादेश लागू किया गया था.

इसे भी पढ़ेंः रांची में 1 अरब 22 करोड़ 40 लाख रुपये का है मेडिकल-इंजीनियरिंग कोचिंग कारोबार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: