NationalTODAY'S NW TOP NEWS

#CAA_Protest: उत्तर प्रदेश के 14 जिलों में इंटरनेट बंद, लखनऊ में SMS पर भी रोक

Lucknow: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देशभर में हो रहे प्रदर्शन के बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने एहतियात के तौर पर कुछ जरूरी कदम उठाये हैं.

सीएए के प्रदर्शनों के बीच ऐहतियाती कदम के तौर पर गुरुवार रात से राज्य के 14 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गयी है. इनमें पश्चिमी उत्तरप्रदेश के छह जिले भी हैं.

इसे भी पढ़ेंःदर्दनाकः कोडरमा में अपने दो बच्चों के साथ ट्रेन के आगे कूदी महिला, तीनों की मौके पर मौत


वही लखनऊ में इंटरनेट के साथ-साथ एसएमएस पर भी बैन लगाया गया है. बता दें कि पिछले शुक्रवार को यूपी के कई शहरों में हिंसक प्रदर्शन हुआ था. वहीं आज शुक्रवार है, वहीं उत्तर प्रदेश में कई शहरों में हाई अलर्ट जारी है. गौरतलब है कि पहले से ही यूपी में धारा 144 लगी हुई है.

14 जिलों में इंटरनेट बंद

यूपी के मेरठ, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, सहारनपुर, आगरा, बिजनौर, देवबंद, मथुरा, संभल, फिरोजाबाद, कानपुर, अलीगढ़, सीतापुर औऱ शामली में इंटरनेट सेवा रोकी गयी है और शुक्रवार शाम यह बहाल की जाएगी. इन जिलों के प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने इस बारे में न्यूज एजेंसी पीटीआइ को बताया.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रवि कुमार ने बताया कि आगरा में शुक्रवार सुबह आठ बजे से शाम छह बजे तक इंटरनेट सेवा बंद रहेगी.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने बताया कि बुलंदशहर में गुरुवार को शाम पांच बजे सेवा बंद कर दी गयी और शनिवार सुबह इसे बहाल किया जाएगा. वही लखनऊ में इंटरनेट के साथ-साथ SMS सेवा पर भी रोक लगायी गयी है. केवल बीएसएनएल यूजर्स ही एसएमएस भेज पायेंगे.

बहरहाल, इन जिलों और क्षेत्र में अन्य जगहों पर पुलिस और प्रशासनिक महकमा अलर्ट है.

पुलिस अधिकारियों ने फ्लैग मार्च किया और समुदाय के नेताओं, नागरिकों से संवाद करते हुए नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर आशंकाओं को दूर करने के लिए उनके बीच पैम्पलेट भी बांटे.

इसे भी पढ़ेंःपलामूः सड़क निर्माण में लगे हाइवा को टीपीसी उग्रवादियों ने फूंका, जांच में जुटी पुलिस

498 लोगों को नोटिस

गौरतलब है कि पिछले शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन के कारण कम से कम 19 लोगों की मौत हो गयी थी और पुलिसकर्मी सहित कई लोग घायल हो गए थे.

वहीं इस दौरान सार्वजनिक संपत्ति को भी काफी नुकसान पहुंचाया गय़ा था. इसे लेकर उत्तर प्रदेश में अभी तक 498 लोगों की पहचान की गई है. जिनपर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप है. इन सभी को यूपी प्रशासन की तरफ से नोटिस जारी कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंःमंगोलिया,चीन,कजाकिस्तान से हजारों विदेशी मेहमान ठंड में सुरक्षा व भोजन की खोज में पहुंच रहे झारखंड

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close