National

#CAA विरोध प्रदर्शन: सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में 46 लोगों को मिला नोटिस

विज्ञापन

Muzaffarnagar: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिला प्रशासन ने संशोधित नागरिकता कानून के विरोध के दौरान यहां सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने में कथित रूप से शामिल रहने के मामले में 46 लोगों को नोटिस भेजा है.

अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट अमित कुमार के नेतृत्व में गठित एक पैनल ने 46 लोगों को नोटिस जारी किया है. श्री कुमार ने कहा कि अधिकारियों ने पाया कि ये आरोपी 20 दिसंबर को सीएए के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के दौरान तोड़-फोड़ में शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – कंबल घोटालाः IAS मंजूनाथ भजंत्री ने जब कार्रवाई शुरू की तो रघुवर सरकार ने उन्हें परेशान कर तबादला कर दिया

advt

9 जनवरी तक जवाब देने का समय

उन्होंने बताया कि आरोपियों को 9 जनवरी तक जवाब देने का समय दिया गया है. वहीं मदरसे के चार छात्रों को एक अदालत के आदेश के बाद छोड़ दिया गया, क्योंकि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष दायर रिपोर्ट में पुलिस ने इन छात्रों को क्लीन चिट दे दी थी.

इसे भी पढ़ें – #Nobel_Prize_Winner_Economist की वित्त मंत्री को सलाह, कॉरपोरेट सेक्टर के पास कैश की कमी नहीं, उन्हें TAX  में छूट न दें  

प्रियंका पहुंचीं मुजफ्फरनगर, पुलिस कार्रवाई से प्रभावित लोगों से मिलीं

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर पहुंचीं, जहां उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के बाद पुलिस की कार्रवाई से प्रभावित लोगों से मुलकात की.

प्रियंका ने रुकैया परवीन नामक उस युवती से भी मुलाकात की जिसकी शादी होनेवाली है. रुकैया के परिवार का आरोप है कि पुलिस उनके घर में घुसी और बहुत सारा सामान ले गयी.

सूत्रों का कहना है कि मुजफ्फरनगर के बाद प्रियंका मेरठ भी जा सकती हैं. उन्हें और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को पिछले दिनों मेरठ जाने से रोक दिया गया था.

इसे भी पढ़ें – पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा CAA के खिलाफ मुंबई से दिल्ली तक निकालेंगे भारत जोड़ो यात्रा 2020

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close