National

#CAA : प्रदर्शन के खिलाफ सख्ती पर कोर्ट की नाराजगी, कर्नाटक हाइकोर्ट ने पूछा- प्रदर्शन पर प्रतिबंध क्यों, गुवाहाटी हाइकोर्ट ने कहा- बहाल करें इंटरनेट सेवा

New Delhi: सीएए के खिलाफ देश भर में हो रहे प्रदर्शनों को दबाने के लिए प्रशासन कई तरह के हथकंडे अपना रहा है. इनमें सबसे ऊपर इंटरनेट और टेलीफोन सेवा को ठप करा देना है. साथ ही कहीं धारा 144 लगा दी जा रही है तो कहीं लाठीचार्ज किया जा रहा है. प्रशासन के इन फैसलों पर कोर्ट ने नाराजगी जतायी है.

Jharkhand Rai

कर्नाटक हाइकोर्ट ने कर्नाटक सरकार द्वारा बेंगलुरु और राज्य के अन्य हिस्सों में धारा 144 लगाने के फैसले पर सवाल उठाया है. कर्नाटक हाइकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि वह 19 से 21 दिसंबर तक लागू प्रतिबंधात्मक आदेशों की वैधता की जांच करेगा.

इसे भी पढ़ें – #CAAProtest : यूपी के कई शहरों में हिंसा, तोड़फोड़, आगजनी, पुलिस पर पथराव, फायरिंग

इधर गुवाहाटी हाइकोर्ट ने असम सरकार को कहा है वह मोबाइल इंटरनेट सेवाएं गुरुवार को बहाल करे. जस्टिस मनोजित भुइयां और जस्टिस सौमित्र सैकिया की खंडपीठ ने पत्रकार अजित कुमार भुइयां और वकीलों बोनोश्री गोगोई, रणदीप शर्मा और देबकांता डोलेय की ओर से दायर जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए प्रदेश सरकार को यह निर्देश दिया.

Samford

क्या आप सभी विरोध-प्रदर्शनों पर रोक लगायेंगे

कर्नाटक हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अभय श्रीनिवास ओका ने इस संबंध में दायर की गयी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए राज्य सरकार से कहा, ‘क्या आप सभी विरोध-प्रदर्शनों पर प्रतिबंध लगायेंगे. आप नियमों को पालन करते हुए पूर्व में दी गयी अनुमति को कैसे रद्द कर सकते हैं.’

इसे भी पढ़ें – सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड: पांकी से बीजेपी उम्मीदवार शशिभूषण मेहता समेत सभी 6 आरोपी बरी

जस्टिस ओका ने कहा, ‘क्या राज्य इस धारणा के आधार पर निर्णय ले सकता है कि हर विरोध-प्रदर्शन हिंसक हो जायेगा? क्या कोई लेखक या कलाकार शांतिपूर्ण विरोध नहीं कर सकता है, यदि वह सरकार के किसी निर्णय से असहमत है.’

कर्नाटक हाइकोर्ट ने एडवोकेट जनरल (एजी) को यह पता करने का भी निर्देश दिया है कि क्या पुलिस ने शुरू में विरोध प्रदर्शनों की अनुमति दी थी, लेकिन बाद में धारा 144 लगाने के बाद इसे रद्द कर दिया.

गुरुवार को सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे इतिहासकार रामचंद्र गुहा और शिवाजीनगर कांग्रेस विधायक रिजवान अरशद सहित कई प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लिया था.

गुवाहाटी हाइकोर्ट ने असम सरकार से मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल करने को कहा

सीएए के विरोध में असम में जारी तनावपूर्ण हालात के बीच गुवाहाटी उच्च न्यायालय ने असम सरकार को निर्देश दिया है कि वह मोबाइल इंटरनेट सेवाएं गुरुवार को शाम पांच बजे तक बहाल करे.

इसे भी पढ़ें – #UnnaoRapeCase: पीड़िता को मिला न्याय, सेंगर को उम्रकैद व 25 लाख का जुर्माना 

 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: