JharkhandLead NewsRanchi

निगम परिषद की बैठक के निर्णय को दरकिनार कर नगर आयुक्त ने रेरा प्रमुख को ऑफिस शिफ्ट करने के लिए लिखा पत्र

Ranchi : निगम परिषद की बैठक में निर्णय लिया गया था कि नगर निगम के नवनिर्मित भवन में किसी अन्य विभाग को कार्यालय स्थापित करने के लिए जगह आवंटित नहीं की जायेगी.

21 जनवरी को हुई इस बैठक में नगर आयुक्त भी मौजूद थे. इसके बाद भी बैठक में लिए गये निर्णय को दरकिनार कर रांची नगर निगम के नये भवन के सातवें फ्लोर को रेरा (झारखंड भू-संपदा नियामक प्राधिकार) को आवंटित किया गया.

रेरा को दफ्तर नये भवन में शिफ्ट करने को लेकर नगर आयुक्त ने 23 फरवरी को रेरा के मुख्य प्रशासनिक पदाधिकारी को पत्र लिखा. इस पत्र में उन्होंने नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव के निर्देश का हवाला देते हुए कहा कि रांची नगर निगम के नवनिर्मित भवन का सातवां तल झारखंड भू-संपदा नियामक प्राधिकार को उपलब्ध कराया जाता है. अतः अपने कार्यालय का स्थानांतरण रांची नगर निगम के नवनिर्मित भवन में कर सकते हैं.

नगर आयुक्त के कार्य पर मेयर आशा लकड़ा ने नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने नगर आयुक्त मुकेश कुमार को पत्र लिख को फटकार लगाया है.

इसे भी पढ़ें: मदरसा परीक्षा का फॉर्म भरने की तिथि बढ़ी, अब 17 मार्च तक कर सकेंगे आवेदन

मेयर आशा लकड़ा ने नगर आयुक्त के इस आचरण पर कहा कि 21 जनवरी को निगम परिषद की बैठक में उन्हें यह निर्देश दिया गया था कि निगम परिषद की बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी विभागीय सचिव को पत्र के माध्यम से उपलब्ध करा दें, ताकि भविष्य में इस विषय को लेकर किंतु-परंतु की स्थिति उत्पन्न न हो.

मेयर ने नगर आयुक्त को लिखे गए पत्र में यह भी कहा है कि नगर आयुक्त ने झारखंड नगरपालिका अधिनियम 2011 का उल्लंघन किया है. उन्होंने नियम का उल्लंघन कर रेरा के मुख्य प्रशासनिक पदाधिकारी को पत्र लिख रांची नगर निगम के नवनिर्मित भवन में कार्यालय स्थानांतरित करने की बात कही है.

मेयर ने नगर आयुक्त को झारखंड नगरपालिका अधिनियम 2011 की धारा-55 का हवाला देते हुए कहा है कि आप रांची नगर निगम के अधिकारी हैं न कि नगर विकास विभाग के. नगर विकास विभाग एवं आवास विभाग के सचिव के निर्देश को सर्वोपरि मानकर आपने झारखंड नगरपालिका अधिनियम व निगम परिषद की गरिमा को ठेस पहुंचाया है.

इसे भी पढ़ें: IND vs ENG: फिर अक्षर की फिरकी में फंसा इंग्लैंड, पहली पारी 205 रन पर सिमटी

निगम परिषद का सचिव होने के नाते झारखंड नगरपालिका अधिनियम व निगम परिषद की बैठक में लिए गए निर्णय का अनुपालन करना आपका कर्तव्य है.

उन्होंने नगर आयुक्त को यह भी कहा कि अपने कार्यालय आदेश निर्गत करने की शक्ति का दुरुपयोग किए हैं, साथ ही नगर आयुक्त को चेतावनी देते हुए कहा है कि रांची नगर निगम के नवनिर्मित भवन में किसी अन्य विभाग को अतिक्रमण नहीं करने दिया जाएगा.

मेयर ने नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वे जानबूझ कर रांची नगर निगम के कार्य क्षेत्र में हस्तक्षेप कर प्रशासनिक अधिकारी को अपने इशारे पर नचा रहे हैं.

विभागीय सचिव को पूर्व में ही रांची नगर निगम के नए भवन की उपयोगिता से अवगत कराया जा चुका है. नए भवन के प्रत्येक फ्लोर पर रांची नगर निगम के विभिन्न शाखाओं को जगह आवंटित किया जा चुका है. फिर भी विभागीय सचिव अपनी मनमानी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: एक अप्रैल से डाकघर बैंक से चार बार से अधिक नकद निकासी की तो देना होगा शुल्क

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: