lok sabha election 2019

वोट के जरिए गुंडातंत्र की सरगना ममता बनर्जी और टीएमसी को उखाड़ फेंकेगी जनताः रघुवर दास

विज्ञापन

Ranchi: अमित शाह के रोड शो में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हुए हमले की सीएम ने कड़ी निंदा की है. मुख्यमंत्री ने अपने आवास में आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि पश्चिम बंगाल में टीएमसी की ममता बनर्जी की सरकार लोकतंत्र की नहीं बल्कि गुंडातंत्र की सरकार है. गुंडा ब्रिगेड द्वारा अमित शाह की रैली पर हुए हमले पर चुनाव आयोग से अविलंब हस्तक्षेप कर कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने कहा कि साढ़े चार सालों में मोदी सरकार द्वारा गरीबों के लिए किये गये कामों के बाद बढ़ते जनाधार से वो हताश हो गईं हैं, अब उन्हें लोकतंत्र पर विश्वास नहीं है और गुंडातंत्र का सहारा ले रहीं हैं. उन्होंने कहा कि शायद इंटेलिजेंस बयूरो की सूचना मिल गयी है, जिससे वो बौखला गयीं हैं.

इसे भी पढ़ें – जैक रिजल्टः साइंस में पाकुड़ के राधेश्याम साहा स्टेट टॉपर, कॉमर्स में रांची की अमीशा कुमारी टॉपर

प. बंगाल की जनता को लोकतंत्र पर भरोसा

रघुवर दास ने कहा कि पश्चिम बंगाल की जनता को लोकतंत्र पर भरोसा है. लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत वोट के माध्यम से जनता गुंडातंत्र की सरगना को उखाड़ फेंकेगी. जनता मोदीजी के साथ है और ममता बनर्जी की टीएमसी बाहुबल और धनबल से लोकतंत्र को प्रभावित कर रही है.

advt

इसे भी पढ़ें – फायरिंग करने और फायरिंग की घटना को छुपाने के आरोप में दो थानेदार निलंबित

गुरुजी पर अत्याचार कर रहा है झारखंड मुक्ति मोर्चा

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि संथाल की सभी सीटों पर बीजेपी जीतने जा रही है. संथाली समाज में काफी जागरुकता आयी है, उन्होंने कहा कि झामुमो गुरुजी पर अत्याचार कर रहा है. जबरदस्ती चुनाव में उन्हें खड़ा कर दिया गया है. उन्होंने साथ ही कहा कि दुमका में राजमहल और गोड्डा में भी परिवर्तन होगा. संथाल की जनता के दिल में भी मोदी बसे हुए हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि कोडरमा की जनता ने भी हम दो हमारे दो को रास्ता दिखा दिया है.

इसे भी पढ़ें – कोलकाता: अमित शाह के रोड शो में हंगामा, लेफ्ट, टीएमसी और बीजेपी समर्थकों में झड़प

आशा लकड़ा पर जेएमएम के नेताओं ने हमला किया

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि महेशपुर में रांची की मेयर आशा लकड़ा पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेताओं ने हमला किया है. झारखंड मुक्ति मोर्चा के योगेश मुर्मू और दशरथ हेंब्रम ने आशा लकड़ा पर हमला किया. उन्होंने चुनाव आयोग से अविलंब इस पर कार्रवाई करने की मांग की है.

adv

इसे भी पढ़ें – क्या आदिवासी और दलितों के हक के लिए राजनीतिक नजरियों को कारपारेट नियंत्रण से मुक्त कर सकेंगे राजनीतिक दल

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button