न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2020 के अंत तक राज्यसभा में बहुमत का आंकड़ा पा लेगा राजग  

तीन तलाक, NRC पर मोदी सरकार की राह होगी आसान, सरकार अपने विधायी एजेंडे को आगे बढ़ायेगी, जो विपक्ष के विरोध के कारण आगे नहीं बढ़ पा रही थीं.  

555

NewDelhi :   भाजपा नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पास अगले साल 2020 के अंत तक राज्यसभा में बहुमत हो जायेगा और उसके बाद मोदी सरकार के लिए अपने विधायी एजेंडे को आगे बढ़ाने में आसानी हो जायेगी. भाजपा नेतृत्व वाली सरकार का प्रयास अपने विधायी एजेंडे को आगे बढ़ाने का होगा, जो पिछले पांच सालों के दौरान विपक्ष के विरोध के कारण आगे नहीं बढ़ पा रही थीं.

सरकार तीन तलाक विधेयक को पास नहीं करा सकी, जबकि यह विधेयक लोकसभा में पारित हो चुका है. नागरिकता संशोधन विधेयक भी पास नहीं हो पाया है. बीजू जनता दल और तेलंगाना राष्ट्र समिति दोनों ने हालांकि भाजपा और कांग्रेस से समान रूप से दूरी बना रखी है, लेकिन दोनों दलों ने पिछले साल राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए हरिवंश का समर्थन किया था.

इसे भी पढ़ेंःगुरुग्राम में टोपी के नाम पर मुस्लिम युवक की पिटायी, छत्तीसगढ़ में गोकशी को लेकर मारपीट

अभी राजग के पास राज्यसभा में 102 सदस्य हैं

अभी राजग के पास राज्यसभा में 102 सदस्य हैं, जबकि कांग्रेस नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के पास 66 और दोनों गठबंधनों से बाहर की पार्टियों के पास 66 सदस्य हैं.राजग के खेमे में अगले साल नवंबर तक लगभग 18 सीटें और जुड़ जायेंगी. राजग को कुछ नामित, निर्दलीय और असंबद्ध सदस्यों का भी समर्थन मिल सकता है. राज्यसभा में आधी संख्या 123 है, और ऊपरी सदन के सदस्यों का चुनाव राज्य विधानसभा के सदस्य करते हैं.

यूपी में खाली होने वाली राज्यसभा की 10 में से अधिकतर सीटें भाजपा जीतेगी

Related Posts

#PMModi ने कहा, सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करना जरूरी, बयान बहादुर राम मंदिर को लेकर अनाप-शनाप बयान न दें…  

पीएम मोदी ने कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है.  कोर्ट में सभी लोग अपनी बात रख रहे हैं.  ऐसे में  बयान बहादुर कहां से आ गये?

अगले साल नवंबर में यूपी में खाली होने वाली राज्यसभा की 10 में से अधिकांश सीटें भाजपा जीतेगी. इनमें से नौ सीटें विपक्षी दलों के पास हैं. इनमें से छह समाजवादी पार्टी (सपा) के पास, दो बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और एक कांग्रेस के पास है. उत्तर प्रदेश विधानसभा में भाजपा के 309 सदस्य हैं. सपा के 48, बसपा के 19 और कांग्रेस के सात सदस्य हैं. अगले साल तक भाजपा को असम, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश में सीटें मिलेंगी. भाजपा राजस्थान, बिहार, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में सीटें गंवायेंगी.

महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के परिणामों का भी राजग की सीट संख्या पर असर होगा. हालांकि, असम की दो सीटों के चुनाव की घोषणा हो चुकी है, जबकि तीन अन्य सीटें राज्य में अगले साल तक खाली हो जाएंगी. भाजपा और उसके सहयोगी दलों के पास राज्य विधानसभा में दो-तिहाई बहुमत है.

ऊपरी सदन की लगभग एक-तिहाई सीटें इस साल जून और अगले साल नवंबर में खाली हो जायेंगी. दो सीटें अगले महीने असम में खाली हो जाएंगी और छह सीटें इस साल जुलाई में तमिलनाडु में खाली हो जायेंगी. उसके बाद अगले साल अप्रैल में 55 सीटें खाली होंगी, पांच जून में, एक जुलाई में और 11 नवंबर में खाली होंगी.

इसे भी पढ़ेंःअंधविश्वास का अंधेरा : नौ पुरुषों का सिर मुड़ा, महिलाओं के काटे नाखुन, परामर्श केंद्र से न्याय की गुहार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: