JharkhandMain SliderRanchi

उपचुनाव : रघुवर के आरोप पर जेएमएम का जवाब, ‘होर्डिंग जारी कर नहीं कहते-वो देखो हो रहा विकास’

  • बेरमो में जनसभा में पूर्व सीएम ने लगाया था आरोप, आदिवासी-दलित विरोधी है हेमंत सरकार

Ranchi  :  राज्य में हो रहे उपचुनाव को लेकर सत्ता और विपक्ष के बीच वाक् युद्ध जारी है. इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बेरमो में हुए जनसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार पर आदिवासी-दलित विरोधी होने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि हेमंत सरकार आदिवासी, दलितों के साथ महिला, युवा, पिछड़ों की विरोधी है.

Jharkhand Rai

इसके जवाब में जेएमएम ने पूर्व सीएम पर बड़ा हमला बोला है. पार्टी ने कहा है कि उनके 5 साल के कुशासन रूपी खाई से हम झारखंड को उबार रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – कराटे खिलाड़ी विमला मुंडा की खराब आर्थिक हालत पर सीएम गंभीर, मदद पहुंचाने का निर्देश

वादे पूरे करे, नहीं तो जाने की तैयारी कर ले हेमंत सरकार :  रघुवर दास

बेरमो में जनसभा को संबोधित करते हुए रघुवर ने कहा कि सत्तारूढ़ जेएमएम-कांग्रेस की सरकार झूठ बोलकर सत्ता में तो आयी है. लेकिन अपने 10 माह में दोनों दलों ने चुनाव पूर्व जो भी निश्चय पत्र जारी किया था, उसमें से एक भी वादा पूरा नहीं किया. उन्होंने कहा है कि आगामी 3 नवंबर को होने वाले बेरमो उपचुनाव में क्षेत्र की जनता सरकार को बतायेगी कि वादे पूरे करें नहीं तो जाने की तैयारी कर ले.

Samford

जेएमएम ने कहा, भाजपा की तरह होर्डिंग-पोस्टर लगा के कार्यों को प्रचारित नहीं करती पार्टी

पूर्व सीएम के आरोपों पर जेएमएम ने अपने 10 माह के किये कामों की एक लिस्ट जारी कर कहा है कि हाथ कंगन को आरसी क्या? रघुवर दास अच्छी तरह से पढ़ लें. हेमंत सरकार भाजपा की तरह होर्डिंग/पोस्टर लगा पाने के कार्यों को प्रचारित नहीं करती. ना ही हम कहते हैं ‘वो देखो हो रहा विकास’. आपके 5 साल के कुशासन रूपी खाई से हम झारखंड को उबार भी रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – पूजा में सफाई व्यवस्था दुरुस्त रहे, इसके लिए खुद उपनगर आयुक्त रात में कर रहे निरीक्षण 

लिस्ट जारी कर जेएमएम ने पूर्व सीएम पर किया पलटवार

प्रशासनिक व्यवस्था

  • सरकार बनने के साथ पहली कैबिनेट में पत्थलगड़ी आंदोलन में लोगों खिलाफ बीजेपी सरकार द्वारा लगाए देशद्रोह के मामले वापस लिये गये.
  • राज्य में गढ़वा समेत 6 ग्रिड सब-स्टेशन ट्रांसमिशन लाइन का उद्घाटन.
  • सरकार आपके द्वार पहल के तहत लोगों को सुलभ तरीके से सरकारी सुविधाएं मिली.
  • पहली बार सारंडा के दूरस्थ ग्रामीण इलाकों में प्रशासन की पहुंच होने से लोगों को मदद मिली.
  • सीमा पर शहीद होने वाले वीरों को अन्य सरकारी सहायता के साथ-साथ पेट्रोल पंप के लिए उनके पसंद की जमीन देने की घोषणा.
  • आजीवन कारावास की सजा काट रहे 139 कैदियों की रिहा करने की पहल.
  • बासुकीनाथ मंदिर में पुरोहित भाई के करंट लगने से मौत पर उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी एवं परिवार को 2 लाख

कोरोना रोकथाम एवं स्वास्थ्य व्यवस्था

  • सीमित संसाधनों के बावजूद कोरोना काल में 3 हाईटेक टेस्टिंग मशीनें हजारीबाग, दुमका एवं पलामू में स्थापित
  • अभी तक 24 लाख से ज्यादा कोरोना सैंपल की जांच पूरी, जो राष्ट्रीय औसत से काफी अधिक है.
  • कोरोना काल में अन्य राज्य में फंसे झारखंडी प्रवासी मजदूरों को मदद हेतु प्रत्येक विधायक को विधायक निधि के 25 लाख रुपये तक व्यय करने की अनुमति
  • ऑकस्मिक लगे लॉकडाउन में बाहर फंसे झारखंड के मजदूरों की मदद के लिए 20 करोड़ भेजने की स्वीकृति.
  • पंचायत स्तर तक दीदी किचन, दाल-भात केंद्र और समुदाय किचन के माध्यम से करोड़ों लोगों को भोजन कराया गया.
  • राज्य गठन के बाद पहली बार मनरेगा के तहत आठ लाख मानव दिवस का रोजगार सृजन.
  • लेह लद्दाख में वर्षों से मजदूरी कर रहे झारखंडवासियों को हेमंत सरकार ने दिया अधिकार.

राशन पेंशन एवं आवास

  • 15 लाख अनाच्छादित लाभुकों को हरे राशन कार्ड के जरिए राशन देने का कार्य शुरू.
  • 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को वृद्धा पेंशन एवं किसी भी उम्र की विधवा महिला को विधवा पेंशन के लाभ की घोषणा

नौकरी एवं रोजगार

  • वर्षों से लटकी छठी जेपीएससी परीक्षा का रिजल्ट जारी कर 325 युवाओं को रोजगार प्रदान किया गया.
  • राज्य में 25 करोड़ तक का टेंडर सिर्फ स्थानीय ठेकेदार को देने का प्रावधान.
  • अनुबंध कर्मियों की स्थाई या अवधि विस्तार आदि मांगों को लेकर अनुबंधकर्मी समिति का गठन.
  • झारखंड की इतिहास में पहली बार जिलों में खेल पदाधिकारियों की नियुक्ति.
  • मुख्यमंत्री पशुधन योजना के माध्यम से झारखंड के किसानों की आजीविका बढ़ाने की शुरुआत.
  • मुख्यमंत्री शहरी कामगार योजना के तहत लाखों गरीब परिवारों को रोजगार देने की शुरुआत.
  • ग्रामीण परिवारों को बिरसा ग्रामीण योजना, नीलांबर-पीतांबर जल समृद्धि योजना, पोटो-हो खेल विकास योजना, दीदी बाड़ी योजना, आशा अभियान एवं फूलो झानो आशीर्वाद योजना के तहत रोजगार और आजीविका के साधन.

इसे भी पढ़ें – MNREGA स्कीम में ग्राम सभाओं को किया जा रहा दरकिनार: झारखंड छात्र संघ

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: