DhanbadJharkhand

#Dhullu तेरे कारण : व्यवसायी का आरोप-  ढुल्लू जहां देखते हैं खाली जमीन, उस पर बाउंड्री बना कर लेते हैं कब्जा

Dhanbad : “ढुल्लू महतो जहां भी खाली जमीन देखते हैं, उस पर बाउंड्री करवाकर कब्जा कर लेते हैं. विरोध करने पर लोगों के साथ मारपीट करता हैं और उसे तरह-तरह से प्रताड़ित करते हैं. बाघमारा क्षेत्र में ऐसे कई उदाहरण देखने को मिल जायेंगे.”

उक्त बातें बाघमारा के जाने-माने व्यवसायी छोटू साव ने कही. छोटेलाल साव उर्फ छोटू साव ढुल्लू के परिचितों में से एक हैं.

न्यूजविंग से बात करते हुए छोटू साव ने कहा, “ढुल्लू और उनके गुंडों ने मेरी जमीन पर भी कब्जा करने की कोशिश की. एक दिन सुबह मैंने देखा कि मेरी खाली पड़ी जमीन पर ढुल्लू लगभग पांच सौ गुडों के द्वारा कब्जा जमाने की कोशिश कर रहे हैं.”

“जमीन पर कब्जा जमाने के लिए उन्होंने जेसीबी मशीन भी मंगवा रखी थी. मैंने इसका विरोध किया तो वे गाली-गलौज करने पर उतर आये. जान से मार देने की धमकी दी. हमने मामले की शिकायत स्थानीय प्रशासन से की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. फिर रांची में वरीय पदाधिकारियों से बात की. वरीय पदाधिकारियों के प्रयास से काम तो रुका लेकिन मैं आज भी न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हूं.”

इसे भी पढ़ें : झारखंड, बिहार समेत उत्तर भारत के लड़के काबिल नहीं, रोजगार की कमी नहीं : केंद्रीय श्रम मंत्री

अनुमंडल पदाधिकारी के न्यायालय में लंबित है मामला

छोटू साव बताते हैं कि फिलहाल यह मामला धनबाद अनुमंडल पदाधिकारी के न्यायालय में लंबित है. वे बताते हैं कि ढुल्लू और उनके गुंडों की गुंडागर्दी पर रोक लगाने में जिला प्रशासन विफल रहा है. जिसका परिणाम यह हुआ है कि ढुल्लू की गुंडागर्दी क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है.

छोटू साव कहते हैं कि जिस जमीन पर ढुल्लू के गुर्गे कब्जा जमाने में विफल होते हैं, उस जमीन को प्रशासन की मिलीभगत से विवादित बना देते हैं, जबकि सारे दस्तावेज जमीन मालिक के पक्ष में होते हैं.

इसे भी पढ़ें : लातेहार : आदिम जनजाति के युवक की जांघ की टूटी हड्डी का #RIMS में नहीं हुआ ऑपरेशन

यह है मामला

नाम – छोटेलाल साव,  पिता – सहदेव साव,  ग्राम – डुमरा, जिला –धनबाद,  पेशा – व्यवसाय.  छोटेलाल साव और उनकी पत्नी  शांति देवी के नाम से मौजा – डुमरा, अंचल – बाघमारा,  खाता संख्या 37,44,45,  प्लॉट संख्या 328 , 343, 348, 349, 331,  332, 335, 336, 340, 342, 359, 329, 330, रकवा 2. 67 एकड़ भूमि पर ढुल्लू महतो अपने 500 गुर्गों के माध्यम से जबरन बाउंड्री करवा रहे थे.

इससे पहले ढुल्लू ने छोटेलाल साव को बुलाकर यह कहा था कि इस जमीन को उन्हें बेच दें, वे जो कीमत कहेंगे, देंगे. लेकिन उन्होंने जमीन बेचने से साफ इंकार कर दिया. इस कारण ढुल्लू और उनके गुंडे जमीन पर कब्जा जमाने की कोशिश की. फिलहाल यहां अनुमंडल पदाधिकारी की ओर से धारा 145 लगा दी गयी है.

संदिग्ध लगती है अनुमंडल पदाधिकारी की कार्यशैली

छोटेलाल साव और उनकी पत्नी की जमीन पर धारा 145 लगाते हुए अनुमंडल पदाधिकारी ने लिखा है बरोरा थाना प्रभारी द्वारा पत्रांक संख्या 1869  दिनाक 07.01.2017 जो  दस्तावेज उपलब्ध कराये गये हैं, उसके अवलोकन से यह मालूम नहीं चलता है कि दस्तावेजी रैयत कौन है और किसका कब्जा है.

लेकिन न्यूज विंग को जो दस्तावेज हाथ लगे हैं उसमें स्पष्ट है कि छोटेलाल साव और उनकी पत्नी शांति देवी द्वारा लगातार लगान रसीद कटवायी जा रही है. लगान रसीद कटवाने के लिए सरकार ने जो मानक तय किये हैं,   उसके पूरा होने पर ही रसीद काटी जाती है.

छोटेलाल साव द्वारा भी रसीद कटवाने लिए जरूरी दस्तावेज प्रस्तुत किये गये. तभी रसीद काटी जा रही है. रसीद और जरूरी दस्तावेज भी अनुमंडल पदाधिकारी को उपलब्ध कराये गये. बावजूद इसके उन्होंने यहां धारा 145 लगा दी.

इसे भी पढ़ें : #NarendraModi की पत्नी यशोदा बेन पहुंचीं धनबाद,  कहा-  महिलाओं की शिक्षा से ही होगा देश का विकास

Related Articles

Back to top button