BiharCrime NewsJharkhandPalamu

बिहार बार्डर से व्यवसायी का अपहरण, पुलिस की सक्रियता से 2 घंटे में मुक्त

Palamu : झारखंड-बिहार के सीमावर्ती पलामू जिले के हरिहरगंज थाना क्षेत्र के बेलोदर मोड़ से रविवार देर शाम व्यवसायी दया जायसवाल को सकुशल मुक्त करा लिया गया. घटना के बाद पुलिस की ओर से तत्काल सक्रियता दिखाकर कार्रवाई की गयी, जिससे घबराकर व्यवसायी को अपहरणकर्ता खेत में ही छोड़कर भाग गए.

पुलिस ने व्यवसायी के अपहरण में इस्तेमाल की गयी स्कार्पिओ को बरामद किया है. घटना में शामिल अपराधियों की पहचान कर ली गयी है. पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. जब्त वाहन अनिल कुमार सिंह के नाम पर निबंधित है.

advt

विदित हो कि रविवार की देर शाम करीब आठ बजे बिहार के औरंगाबाद जिले के कुटुम्बा के महराजगंज निवासी दया जायसवाल का हरिहरगंज के बेलोदर मोड़ के समीप सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के पास हथियारबंद स्कार्पिओ सवार अपराधियों ने अपहरण कर लिया था. बेलोदर मोड़ पर व्यवसायी का महुआ गोदाम है. गोदाम बंद कर व्यवसायी घर जाने की तैयारी में थे.

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच वापस लौटते मजदूरों ने बढ़ायी चिंता

जबरन व्यवसायी को टांगकर ले जाने के बाद गोदाम के मजदूरों ने विरोध किया था और इसकी सूचना पुलिस को दी थी. सूचना पर हरिहरगंज पुलिस सक्रिय हुई और जिस दिशा में स्कार्पिओ से व्यवसायी को ले जाया गया, उस ओर छानबीन की गयी.

ग्रामीणों से पता करते-करते पुलिस वहां पहुंच गयी, जहां से सटे खेत में व्यवसायी को अपराधियों के द्वारा अगवा कर रखा गया था. पुलिस की गतिविधि भांप कर अपहरणकर्ता व्यवसायी को मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए. करीब एक घंटे बाद व्यवसायी घटनास्थल से सटे खैरा गांव में हो रहे यज्ञ स्थल पर पहुंचे.

आपबीती सुनाने के बाद ग्रामीणों के द्वारा इसकी जानकारी हरिहरगंज पुलिस को दी गयी. रात करीब 12 बजे हरिहरगंज पुलिस मौके पर पहुंची और व्यवसायी को सकुशल थाना ले आयी.

हरिहरगंज थाना प्रभारी सुदामा कुमार दास ने बताया कि कल रात करीब 8 बजे व्यवसायी दया जायसवाल को हथियार के बल पर अपराधी एक स्कार्पिओ से उठा ले गए थे. सूचना पर टीम बनाकर तत्काल कार्रवाई की गयी.

अपहरण के बाद व्यवसायी को घटनास्थल से दक्षिण दिशा की ओर से गांव के किनारे-किनारे से आगे ले जाया गया था. पश्चिमी छोर पर पहुंचने के बाद आगे जाने का रास्ता नहीं था. इस कारण गाड़ी लगाकर अपहरणकर्ता पैदल उन्हें ले जा रहे थे.

व्यवसायी के गोदाम के मजदूर की जानकारी और ग्रामीणों से सूचना इक्ट्ठा कर पुलिस छानबीन में सफल हुई. जिस जगह पर व्यवसायी को रखा गया था. उससे करीब 200 मीटर के समीप पुलिस पहुंच गयी थी.

पुलिस की गतिविधि को देखकर अपहरणकर्ता घबरा गए और व्यवसायी को मौके पर छोड़कर फरार हो गए. इस संबंध में व्यवसायी के छोटे भाई गणेश प्रसाद जायसवाल द्वारा मामला दर्ज कराया गया है.

इसे भी पढ़ें: कोरोना मरीज के आत्महत्या मामले में स्वास्थ्य और पीएचईडी मंत्री ने दिया जांच के आदेश, उपायुक्त सौंपेंगे रिपोर्ट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: