NEWS

ढुल्लू तेरे कारण : बाघमारा में बंद हो रहे उद्योग-धंधे, पलायन करने को मजबूर हैं मजदूर

Kumar Kamesh

Dhanbad : झारखंड सरकार उद्योगपतियों को आकर्षित करने के लिए मोमेंटम झारखंड जैसे कार्यक्रम चला रही है. इस पर करोड़ों रुपये खर्च किये जा रहे हैं. लेकिन सत्तारूढ़ पार्टी के ही बाघमारा विधायक सरकार के इन प्रयासों पर पलीता लगाने का काम कर रहे हैं.

advt
[videopress nKaFJPKY]

बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो निजी और बीसीसीएल में काम करने वाली आउटसोर्सिंग कंपनियों से रंगदारी मांग रहे हैं. इनमें कई विदेशी कंपनियां भी हैं. ढुल्लू की मनमानी के कारण इनमें से कई कंपनियां काम बंद कर बाघमारा से जा चुकी हैं.

इसे भी पढ़ें : रांची : हर साल 10% बढ़ रही गाड़ियां, लेकिन नहीं बढ़ी सड़कों की चौड़ाई

रोजी-रोटी का संकट 

इसका असर क्षेत्र के बेरोजगार युवकों पर पड़ रहा है. इन कंपनियों के बंद होने के कारण उनके समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गयी है. फलस्वरूप वे पलायन करने को मजबूर हैं.

इन कंपनियों ने विधायक ढुल्लू महतो के रवैये से तंग आकर मामले की शिकायत जिला प्रशासन और सीएम रघुवर दास तक से की लेकिन ढुल्लू के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो पायी. विधायक के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने के कारण इन कंपनियों में असुरक्षा का माहौल पैदा हुआ जिस कारण इन्होंने काम बंद कर दिया.

इसे भी पढ़ें : पलामू: सतबरवा में चार वर्षीया बच्ची की पटक कर हत्या, CRPF और मनिका पुलिस पर हत्या का आरोप 

कई कंपनियों से मांगी गयी है रंगदारी

आइजेट कारटेक्स : यह रूस की कंपनी है, जो बीसीसीएल में मशीनों के रखरखाव का काम करती थी. इस कंपनी से ढुल्लू के समर्थकों ने रंगदारी की मांग की. कंपनी ने मामले की शिकायत स्थानीय स्तर से लेकर रूस के कोलकाता स्थित वाणिज्यिक दूतावास से की लेकिन ढुल्लू पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. फलस्वरूप इस कंपनी ने भी काम बंद कर दिया.

ओरिएंटल आउटसोर्सिंग :  बीसीसीएल की अति महत्वाकांक्षी परियोजना 800 करोड़ रुपये की थी. इस परियोजना पर भी ढुल्लू और उसके समर्थकों की नजर लग गयी. इस कंपनी से ढुल्लू और उसके गुर्गों ने रंगदारी की मांग की थी. नहीं देने पर ढुल्लू ने खुद मोर्चा संभाला और खुलेआम कंपनी के प्रबंधक को फोन कर धमकी दी थी. इस मामले का एक ऑडियो भी वायरल हो चुका है. बावजूद इसके इस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी.

हार्ड कोक भट्ठा :  इंडस्ट्री एंड कॉमर्स के पदाधिकारी बीएन सिंह ने बाघमारा में संचालित लोडिंग प्वाइंटों से कोयला उठाव को लेकर रंगदारी मांगे जाने का खुलासा किया था. इस मामले में शिकायत डीसी और एसएसपी से भी की गयी और ढुल्लू और उसके गुर्गों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गयी. इस मामले में भी ढुल्लू के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई.

रंगदारी मांगे जाने के कारण क्षेत्र की ये कंपनियां बंद हो गयी. हार्ड कोक भट्ठों ने भी कोयला लेना बंद कर दिया. इस कारण मजदूरों के समक्ष भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गयी. अब यही मजदूर रोजी-रोजगार की तलाश में अन्य प्रदेशों में पलायन करने को मजबूर हैं.

इसे भी पढ़ें : राज्य में अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में चार की मौत

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: