Corona_UpdatesKhas-Khabar

#IndianNavy में कोरोना वायरस की सेंधः 21 नौसैनिक संक्रमित, देश का आंकड़ा 14 हजार के पार

New Delhi: देश में कोरोना का संक्रमण जारी है. वहीं इस जानलेवा वायरस ने अब भारतीय नौसेना को अपनी चपेट में ले लिया है. 21 नौसैनिक कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. वहीं देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 14 हजार से अधिक हो गयी है.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaOutBreak: बिहार में वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर दो

21 नौसैनिक कोरोना पॉजिटिव

मुंबई में भारतीय नौसेना के 21 कर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं.बताया जा रहा है कि नौसेना में 25 से अधिक कर्मियों के कोरोना टेस्ट हो चुके हैं और इनमें से 21 पॉजिटिव बताए जा रहे हैं. ये नौसैन्य कर्मी पश्चिमी नौसैन्य कमान की साजोसामान और सहयोग शाखा आईएनएस आंग्रे का हिस्सा थे. सभी का मुंबई के एक नौसैन्य अस्पताल में इलाज चल रहा है.

Sanjeevani

खबर है कि आइएनएस आंग्रे, मुंबई परिसर में एक नाविक कोरोना वायरस से संक्रमित था, उसी से बाकी लोगों में इसका संक्रमण फैला है. नाविक 7 अप्रैल को हुई जांच में पॉजिटिव पाया गया था.

आइएनएस आंग्रे, मुंबई परिसर में लोगों को क्वारनटीन कर दिया गया है. उसके साथ ही संक्रमण और न फैले इसके लिए उचित कदम उठाए गए हैं. राहत की बात ये है कि संक्रमण जहाज और पनडुब्बियों में संक्रमण का कोई मामला नहीं है.

देश में 14 हजार से ज्यादा संक्रमित

कोरोना वायरस का संक्रमण देश में बढ़ता जा रहा है. संक्रमितों की संख्या 14 हजार 378 हो चुकी है. वहीं 480 लोगों की जान इस वायरस ने ली है. जबकि 1991 कोरोना मरीज ठीक भी हुए हैं. देश में अभी 11906 कोरोना मरीज हैं.

देश में महाराष्ट्र सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है, जहां आंकड़ा तीन हजार को पार कर चुका है. वहीं दिल्ली में मरीजों की संख्या बढ़कर 1700 से अधिक हो चुकी है. देश के जिलों में इंदौर सबसे अधिक प्रभावित है. इस जिले में संक्रमितों की संख्या 800 के पार है. वहीं 47 लोगों की मौत हो चुकी है.

इसे भी पढ़ेंः#Corona महामारी के बीच मानदेय को तरस रहे राज्य के 30 हजार आउटसोर्सिंग स्वास्थ्यकर्मी

महाराष्ट्र में 118 नए मामले, 3,320 कोरोना पॉजिटिव

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के शुक्रवार को 118 नए मामले आने के साथ ही राज्य में अभी तक 3,320 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.

वहीं, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि 20 अप्रैल से कुछ औद्योगिक और व्यावसायिक गतिविधियां शुरू होंगी, लेकिन यह कोरोना वायरस रोकथाम/उन्मूलन के लिए तय नियमों के पालन के आधार पर होगा.

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को राज्य में सात लोगों की संक्रमण से मौत हुई हैं अभी तक कुल 201 लोगों की मौत संक्रमण के कारण हुई है. उन्होंने बताया कि जिन सात लोगों की मौत हुई है उनमें से पांच मुंबई के हैं और उन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप तथा हृदय रोग जैसी बीमारियां थीं.

उन्होंने बताया कि इलाज के बाद संक्रमण मुक्त होकर 331 लोग अपने घर लौट चुके हैं. अभी तक 61,740 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण के लिए जांच हुई है.

राज्य में अभी तक संक्रमण के 3,320 मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें से 2,085 मामले मुंबई के हैं. वहीं कुल 201 मौतों में से 122 लोगों की मौत अकेले मुंबई शहर में हुई है. राज्य में 330 निषिद्ध क्षेत्र हैं और 5,850 सर्वे दलों ने 20 लाख से ज्यादा लोगों की जांच की है.

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 1707

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के 67 नये मामले सामने आने के साथ शुक्रवार को कुल मामले बढ़ कर 1707 पहुंच गये. वहीं, चार और लोगों की मौत होने के साथ मरने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़ कर 42 हो गई.

अधिकारियों ने बताया कि मालवीय नगर और जहांगीरपुरी सहित विभिन्न इलाकों को निषिद्ध क्षेत्र में शामिल किये जाने के साथ इन इलाकों की संख्या बढ़ कर 68 हो गई.

दक्षिण दिल्ली के जिलाधिकारी बी एम मिश्रा ने बताया कि संगम विहार में एक स्थान को निषिद्ध क्षेत्र घोषित किया गया है.

कोविड-19 हॉटस्पॉट में निगरानी के लिए एंटीबॉडी जांच हो- आइसीएमआर

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) ने सभी राज्यों को पत्र लिख कर कहा है कि वे कोरोना वायरस संक्रमण से अत्यधिक प्रभावित क्षेत्रों में निगरानी के लिए त्वरित एंटीबॉडी जांच करें.

राज्यों के सभी मुख्य सचिवों और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिवों को लिखे पत्र में आइसीएमआर के निदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव ने महामारी विज्ञान के अध्ययन और निगरानी के लिहाज से हॉटस्पॉट इलाकों में ‘त्वरित एंटीबॉडी जांच’ करने के तौर-तरीकों के बारे में बताया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि भारत को गुरुवार को चीन से पांच लाख त्वरित एंटीबॉडी जांच किट मिले हैं और इन्हें उन राज्यों तथा जिलों को भेजा जा रहा है जो कोरोना वायरस संक्रमण से अत्यधिक प्रभावित हैं.

आइसीएमआर में महामारी विज्ञान और संक्रामक रोग विभाग के प्रमुख डॉक्टर रमन आर. गंगाखेडकर ने बताया था कि जो त्वरित एंटीबॉडी जांच किट खरीदी जा रही हैं वह प्रारंभिक जांच के लिए नहीं, बल्कि निगरानी और संक्रमण के प्रसार की प्रवृत्ति का पता लगाने के लिए हैं.

इसे भी पढ़ेंःरांची के हिंदपीढ़ी में तीन और कोरोना पॉजिटिव, झारखंड में कुल 32 लोग संक्रमित

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button