JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड के सचिव एवं वरीय अधिकारियों के लिए रांची में बनेंगे बंगले

  • पुरानी विधानसभा एवं शहीद मैदान के मध्य खाली भूखंड पर बनेगा आवास
  • क्लब, जिम, पार्क, योग केंद्र, स्विमिंग पुल और बच्चों के लिए मनोरंजन केंद्र भी बनेगा
  • 20 एकड़ भूखंड उपलब्ध, 40 बंगले तक बनाने की है योजना
  • 982 वर्ग मीटर का होगा एक आवास

Ranchi: राज्य गठन के बाद पहली बार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार सचिव एवं अन्य वरीय अधिकारियों के लिए बंगले बनाने की योजना को मूर्तरूप देने जा रही है. इसके लिए नगर विकास विभाग ने पहल भी शुरू कर दी है.

नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे के निर्देश पर जुडको ने कार्रवाई आरंभ कर दी है. गुरुवार को जुडको के सभागार में बंगलों का विस्तृत कार्य प्रतिवेदन (डीपीआर) बनाने के उद्देश्य से परामर्शी कंपनियों के चयन के लिए प्रस्तुतिकरण किया गया. देश की चार प्रतिष्ठित कंपनियों ने अपनी अपनी प्राथमिक डिजाइन को चयन समिति के समक्ष प्रस्तुत किया.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें :जबरिया रिटायर कराये गये झारखंड निवासी IPS ने लगाया ऐसा नेमप्लेट कि खूब हो रही चर्चा

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

एचईसी स्थित शहीद मैदान और पुराने विधानसभा के बगल वाली खाली लगभग 20 एकड़ जमीन पर सचिव स्तर एवं वरीय अधिकारियों के लिए 40 बंगले तक बनाने की योजना है. लगभग एक आवास एक हजार वर्गमीटर का होगा.

सभी बंगलों में एक मास्टर बेड रूम सहित चार बेड रूम बनेंगे. बंगलों में लैंड स्केपिंग, आवासीय कार्यालय, किचेन, गेस्टरूम, लाउंज, ड्राइंग रूम, डाइनिंग रूम, सरवेंट क्वार्टर, सिक्यूरिटी गार्ड रूम, स्टोर और गैरेज रहेगा. अध्ययन कक्ष, योग कक्ष, पूजा कक्ष और अन्य सुविधायें उपलब्ध रहेंगी.

परामर्शियों ने अपनी प्रस्तुतिकरण में आवासीय परिसर में पूरी तरह हरियाली का प्रावधान दिखाया. इसके अलावा आवासों के बीच में लैंड स्केपिंग का भी प्रावधान किया है.

परिसर में ही एक क्लब का भी निर्माण होगा. साथ ही यूटिलिटी सेंटर भी होगा. क्लब से सटा एक स्विमिंग पूल भी बनाने की योजना है. बच्चों के मनोरंजन के लिए पार्क के साथ ओपेन स्पेस जिम भी बनेगा.

इसे भी पढ़ें :सरकारी जमीन पर लगी फसल कटवाने गयी पुलिस और ग्रामीणों में झड़प, ईंट-पत्थरों से हमला, लाठीचार्ज

हर हाल में हरियाली एवं वास्तु का पूरी तरह से ख्याल रखा जायेगा. सभी बंगलों के भीतर भी एक छोटा गार्डेन बनाया जायेगा. वैकल्पिक विद्युत व्यवस्था के लिए बंगलों की छतों पर सोलर पैनल लगाने का प्रावधान किया गया है.

पूरे आवासीय परिसर में जॉगिंग एवं साइक्लिंग के लिए पाथ वे बनाया जायेगा. पेयजलापूर्ति, वर्षा जल संरक्षण और संचार के माध्यम का भी प्रावधान किया गया है.

प्रस्तुतिकरण में नई दिल्ली की मास एन वायड कंस्लटेंट , मार्स प्लानिंग एंड इंजीनियरिंग सर्विस प्राइवेट लिमिटेड रांची, शिवा कंस्लटेंसी सर्विस नई दिल्ली और कोठारी एसोसियेट्स प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली ने हिस्सा लिया.

जुडको के परियोजना निदेशक (तकनीकी) रमेश कुमार, नगर विकास विभाग के उप सचिव चंदन कुमार, जुडको के परियोजना निदेशक (प्रशासन) अमरेंद्र कुमार, परियोजना निदेशक (वित्त) अमित चक्रवर्ती, नगर विकास विभाग तकनीकी सेल के मुख्य अभियंता राजदेव सिंह, भवन निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता दिनेश कुमार, जुडको के महाप्रबंधक (परिवहन) वीरेंद्र कुमार एवं महाप्रबंधक (भवन) विनय कुमार राय ने प्रस्तुतिकरण देखा.

इसे भी पढ़ें :झारखंड की हॉकी टीम ने रचा इतिहास, नेशनल सब जूनियर पुरुष हॉकी में हरियाणा को हरा बनी चैंपियन

Related Articles

Back to top button