JharkhandMain SliderRanchi

हंगामे के साथ शुरू हुआ बजट सत्र, राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान वेल में घुसे झामुमो विधायक

  • जिनलाखों अभ्यर्थियों को मिला है जॉब, उनकी सूची जारी करे सरकार
  • नेता प्रतिपक्ष हेमंत बोले : राज्य का विकास नहीं हो रहा है विनाश
  • ऑक्सीजन पर है स्वास्थ्य विभाग

Ranchi : विधानसभा का बजट सत्र हंगामे के साथ शुरू हुआ. गुरुवार को सदन की कार्यवाही दिन के 11:01 बजे शुरू हुई. सबसे पहले स्पीकर ने अपना वक्तव्य दिया. इसके बाद 11:29 बजे राज्यपाल का अभिभाषण शुरू हुआ. राज्यपाल का अभिभाषण शुरू होते ही झामुमो विधायक अपनी सीट पर खड़े हो गये और टोका-टोकी शुरू कर दी. 11:38 बजे झामुमो के सभी विधायक वेल में घुस गये. पारा शिक्षक मामले को लेकर जमकर नारेबाजी की. फिर दोपहर 12:06 बजे झामुमो विधायक अपनी सीट पर बैठ गये. राज्यपाल का अभिाषण कुल 57 मिनट चला. इस दौरान विपक्ष की ओर से टोका-टोकी जारी रही.

नेता प्रतिपक्ष हेमंत ने सरकार पर साधा निशाना

सदन में राज्यपाल जब अपने अभिभाषण में सरकार की उपलब्घियां गिना रही थीं, तब नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कई बार टोका-टाकी की. राज्यपाल ने कहा कि झारखंड विकास के पथ पर अग्रसर है, इस पर नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य का विकास नहीं विनाश हो रहा है. राज्यपाल महोदया आप मजबूर हैं. वहीं राज्यपाल ने अपने अभिभाषण के दौरान कहा कि सहन की गरिमा और पवित्रता को बचा कर रखें. दोपहर 12:48 बजे सदन की कार्यवाही शुक्रवार दिन के 11 बजे तक के लिये स्थगित कर दी गयी.

सीएम दुबई, जापान जैसे देशों में जाकर मांग रहे हैं  रोजगार की भीख : हेमंत

सदन की कार्यवाही समाप्त होने के बाद नेता प्रतिपक्ष ने मीडिया से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जुमले में माहिर हैं. ठीक उनका ही अनुसरण रघुवर दास कर रहे हैं. सीएम दुबई, जापान जैसे देशों में जाकर रोजगार की भीख मांग रहे हैं. सरकार ने जिस लाखों अभ्यर्थियों को जो जॉब दिया है, उसकी सूची जारी करे. यही उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि होगी. प्रदेश में आठ लाख कर्मचारी अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं. सरकार की उपलब्धियों से राज्य का नुकसान हो रहा है.

अर्शीवाद योजना किसानों के दीर्घायु के लिए या मरणोपरांत के लिए

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कृषि आर्शीवाद योजना किसानों के दीर्घायु के लिये है या मरणोपरांत के लिये, सरकार को इसे स्पष्ट करना चाहिए. सरकार यह भी बताये कि प्रतिएकड़ 5000 रुपये किसानों को मरने के बाद देगी, यह भी बताये. पलामू में सूखा है, वहीं मंडल डैम के जरीये बिहार को पानी पहुंचाया जायेगा. सरकार की नीति विकास की नहीं विनाश की है.

सत्ता दल के विधायक निर्लज

हेमंत सोरेने ने सत्ता दल के विधायकों पर भी निशाना साधा. कहा कि सत्ता दल के विधायक निर्लज हैं. उन्हें अपनी जेब भरनी है, इस कारण विरोध नहीं कर रहे. प्रदेश में स्कूल चला नहीं पा रहे हैं, वहीं मेडिकल कॉलेज और पारा मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग ऑक्सीजन पर है. सरकार नौजवानों और महिलाओं के प्रति संवेदनशील नहीं है. सीएम पर तंज कसते हुये कहा कि केंद्र सरकार लाख लोगों को तो रोजगार नहीं दिला सकी, लेकिन राज्य सरकार इसमें अव्वल है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: