न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जनभ्रामक, चुनावी मेनिफेस्टो और जनता को ठगनेवाला है बजट : जयशंकर चौधरी

41
  • 2019-20 के बजट पर आम आदमी पार्टी ने जताया असंतोष

Ranchi : आम आदमी पार्टी झारखंड के प्रदेश संयोजक जयशंकर चौधरी ने वर्ष 2019-20 के लिए तय बजट को जनभ्रामक एवं जनता को ठगनेवाला बताया है. उन्होंने कहा है कि रघुवर सरकार ने आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर यह बजट बनाकर राज्य की जनता को लॉलीपॉप दे दिया है. ऐसे में इस बजट को किसी भी हाल में जनकल्याणकारी नहीं कहा जा सकता है. रघुवर सरकार का यह बजट पूरी तरह से चुनावी मेनिफेस्टो की तरह पेश किया गया बजट है.

अपनी ही घोषणा को पूरा नहीं किया सरकार ने

hosp3

जयशंकर चौधरी ने कहा कि इस बजट में सरकार ने किसानों को स्मार्टफोन देने की बात कही है. जबकि, अगर इसी सरकार के पिछले बजट को याद करें, तो किसानों के लिए कोल्ड स्टोरेज बनाने की घोषणा की गयी थी, लेकिन अपनी इस घोषणा को सरकार आज तक पूरा नहीं कर सकी है. उसी तरह झारखंड जैसे पिछड़े राज्य में मात्र 4.85 प्रतिशत राशि स्वास्थ्य सेवा के लिए आवंटित की गयी है, जो बहुत कम है. दिल्ली में तो केवल स्वास्थ्य पर 11.5 प्रतिशत राशि खर्च की जा रही है. उन्होंने कहा कि हालांकि, सरकार ने दिल्ली की तर्ज पर राज्य में भी मुहल्ला क्लिनिक बनाने का फैसला किया है, जो सराहनीय है. किंतु, इस बजट में सरकार ने केवल ऐसे 25 मुहल्ला क्लिनिक बनाने की घोषणा की है. जबकि हकीकत यह है कि झारखंड जैसे राज्य में आज 4500 मुहल्ला क्लिनिक की आवश्यकता है.

शिक्षा में खर्च करने में सरकार है पीछे

आप नेता ने कहा कि शिक्षा व्यवस्था में भी राशि खर्च करने में सरकार ने इस बजट में कोई दिलचस्पी नहीं दिखायी है. दिल्ली में जहां आप सरकार शिक्षा पर 26 प्रतिशत राशि खर्च कर रही है, वहीं रघुवर सरकार ने बजट में इस बार केवल 10 प्रतिशत राशि ही आवंटित की है. शिक्षा में इतनी कम राशि खर्च कर सरकार ने छात्रों के साथ धोखा किया है. वहीं, आवास के नाम पर मात्र छह करोड़ रुपये आवंटित करना भी शर्मनाक है. यह एक तरह से गरीबों के साथ धोखा है. कमल क्लब के नाम पर रघुवर सरकार जनता के पैसे को भाजपा के प्रचार-प्रसार के लिए खर्च कर रही है.

इसे भी पढ़ें- शहीद नीलांबर-पीतांबर को भूली रघुवर सरकार, बिना उनके गांव की मिट्टी के शौर्य पार्क के लिए हुआ मिट्टी…

इसे भी पढ़ें-जिन सरना स्थलों से मिट्टी उठायी गयी है, वहां शुद्धीकरण अभियान चलाया जायेगा : आदिवासी संगठन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: