न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीजेपी से लड़ सकते हैं बब्बन गुप्ता चुनाव, रघुवर दास के हैं करीबी

लोजपा से छह साल बाद तोड़ा नाता, अब लगा रहे हैं नयी दिल्ली के चक्कर

574

Ranchi : लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बब्बन गुप्ता अब नयी पार्टी की तलाश में हैं. उनका भारतीय जनता पार्टी भाजपा में जाना तय माना जा रहा है. 2012 से लोजपा की बागडोर संभालकर रखनेवाले बब्बन गुप्ता भाजपा से मिशन 2019 में विधानसभा का चुनाव लड़ना चाहते हैं. फिलहाल वे झारखंड राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के एक सदस्य भी हैं. इनका कार्यकाल छह महीने बाद समाप्त हो रहा है. आयोग के सदस्य के रूप में उनकी नजदीकी सरकार के वरीय अधिकारियों और प्रभावशाली नेताओं से भी बढ़ी. राष्ट्रीय जनतांत्रकि गठबंधन (राजग) के घटक दल के रूप में लोजपा की तरफ से उनकी भागीदारी सभी बड़े कार्यक्रमों में भी लगातार रही है.

इसे भी पढ़ें – मोमेंटम झारखंड आखिर एक स्कैम कैसे ? जानिये क्या हैं वजहें

लोजपा की तरफ से अब झारखंड में बीरेंद्र प्रधान को पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है. पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने सत्ता के गलियारे में आयोग के सदस्य के रूप में भाजपा के बड़े नेताओं के साथ अच्छे संबंध बना लिये हैं. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री रघुवर दास और प्रदेश भाजपा के बड़े नेताओं के साथ भी बेहतर सांठ-गांठ बनाये गये हैं. अब किसी खास तारीख की तलाश है, जब वे ताम-झाम के साथ भाजपा का दामन थामेंगे.

इसे भी पढ़ें – आदिवासी महिलाओं से शादी करने वाले गैर आदिवासी की जमीन होगी जब्त, प्रस्ताव तैयार

लोजपा से भंग हो गया था मोह

palamu_12

बब्बन गुप्ता ने खुद न्यूज विंग को बताया कि लोक जनशक्ति पार्टी से उनका मोह लगभग भंग हो गया है. लोजपा में रहते हुए पार्टी को मजबूत बनाने और पार्टी संगठन को मजबूत करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका भी रही है. उन्होंने कहा कि लोजपा का जनाधार पूर्व की तुलना में अनपेक्षित नहीं बढ़ा है. हालांकि लोजपा से हटने के कारण कुछ और बताये जा रहे हैं. यह पूछे जाने पर कि क्या वे भाजपा में जा रहे हैं. इस पर उन्होंने कुछ कहा नहीं, लेकिन साथ ही कहा कि राष्ट्रीय स्तर की पार्टी उनकी पहली पसंद है. पार्टी संगठन में जो काम उन्हें दिया जायेगा, वे इसके लिए तत्पर रहेंगे. भाजपा में जाने की वजह गिरिडीह विधानसभा से चुनाव लड़ना तो नहीं, इसपर उन्होंने कहा कि पार्टी नेतृत्व यदि उन्हें जवाबदेही सौंपेगी, तो वे इसका निर्वह्न भी अवश्य करेंगे. काफी साफगोई से उन्होंने भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ने की बातों को खारिज किया.

इसे भी पढ़ें – गलत इंजेक्शन ने ली मरीज की जान ! गुस्साये परिजनों का हंगामा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: