न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

यूपी में बीजेपी के खिलाफ बुआ-बबुआ आये साथ,  38-38 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव

2,074
  • मायावती को पीएम बनाने पर बोले अखिलेश, यूपी ने देश को कई पीएम दिए, चाहेंगे अगला प्रधानमंत्री भी उत्तर प्रदेश से हो
  • मायावती का मोदी-शाह पर निशाना, साझा प्रेस वार्ता से उड़ेगी ‘गुरु-चेले’ की नींद
  • दो सीट दूसरे दलों के लिए, दो सीट कांग्रेस के लिए छोड़ी गई

Lucknow: आम चुनाव में बीजेपी को रोकने के लिए यूपी में बसपा-सपा के बीच गठबंधन की औपचारिक घोषणा हो गई है. बहुजन समाजवादी पार्टी और समाजवादी पार्टी सूबे के 80 सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं दो सीटें दूसरे दल और रायबरेली और बरेली की सीट कांग्रेस के लिए छोड़े जाने की बात कही गई. बसपा प्रमुख मायावती और सपा के अखिलेश यादव ने संयुक्त प्रेस कॉन्फेंस कर साथ चुनाव लड़ने की घोषणा की. इस साझा प्रेस वार्ता में निशाने पर प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी रही.

उड़ेगी ‘गुरु-चेले’ की नींद- मायावती

बसपा-सपा के संयुक्त संवाददाता सम्मेलन से ‘गुरु-चेले’, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ जाएगी. ये कहना है बसपा प्रमुख मायावती का. मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि गठबंधन में उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से बसपा 38 और सपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किये जाने के बारे में उन्होंने कहा कि, उनके शासन के दौरान गरीबी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में वृद्धि हुई.

इस दौरान बसपा सुप्रीमो ने अवैध खनन घोटाले में अखिलेश यादव का नाम जोड़े जाने पर भी केंद्र पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि भाजपा ने इस गठबंधन को तोड़ने के लिए सपा प्रमुख अखिलेश यादव का नाम जानबूझकर खनन मामले से जोड़ा, लेकिन उन्हें मालूम होना चाहिए कि उनकी इस घिनौनी हरकत से सपा—बसपा गठबंधन को और मजबूती मिलेगी.

अगला पीएम यूपी से हो- अखिलेश

वही मीडिया को संबोधित करते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बीजेपी और योगी सरकार पर अपनी भड़ास निकाली. उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को ‘जाति प्रदेश’ बना दिया है. भाजपा ने भगवानों को भी जाति में बांट दिया है. उन्होंने बीजेपी पर धर्म के नाम पर नफरत फैलाने का भी आरोप लगाया.

साथ ही कहा कि सपा-बसपा का केवल चुनावी गठबंधन नहीं है, यह गठबंधन भाजपा के अत्याचार का अंत भी है. अखिलेश ने कहा कि भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए बसपा और सपा का मिलना बहुत जरूरी था. वहीं मायावती के अगले पीएम होने के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए हैं. हम चाहेंगे कि अगला पीएम भी यूपी से ही हो. मायावती का साथ देते हुए सपा प्रमुख ने कहा कि मायावती का सम्मान मेरा सम्मान है, अगर भाजपा का कोई नेता मायावती का अपमान करता है तो सपा कार्यकर्ता समझ लें कि वह मायावती का नहीं बल्कि मेरा अपमान है.

इसे भी पढ़ेंः जंगली जानवरों के संरक्षण पर 21.25 करोड़ खर्च, फिर भी लुप्त हो रहे वन्य प्राणी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: