JharkhandPalamu

झारखंड में भाषा के नाम पर भाई-भाई की लड़ाई बर्दाश्त नहीं : कमलेश कुमार सिंह

Palamu : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश कुमार सिंह ने कहा कि झारखंड में भाषा के नाम पर भाई भाई को लड़ाई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. राज्य स्तरीय प्रतियोगिता परीक्षाओं में मगही, अंगिका व भोजपुरी भाषा को लेकर सरकार का जिस तरह से स्टैंड है, वह चिंताजनक और दुर्भाग्यपूर्ण है.

132 के खतियान आधारित स्थानीयता के भी वे पक्षधर नहीं हैं. वे चाहते हैं कि झारखंड में 50-60 वर्ष से रहने वाला हर व्यक्ति यहां की सुविधाओं पर अधिकार रखता है और उसे इसका लाभ मिलना चाहिये. एनसीपी अध्यक्ष मंगलवार को मेदिनीनगर में पत्रकारों से बात कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें : हटाये गये खेल निदेशक के OSD, वापस पुलिस सेवा में लगी ड्यूटी

Catalyst IAS
ram janam hospital

विधायक कमलेश ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं में अंगिका, भोजपुरी और मगही हो हटाकर इस भाषा के युवाओं के साथ हेमंत सरकार अन्याय कर रही है. सरकार को इस विषय पर पुनर्विचार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि झारखंड के लगभग सभी जिलों में भोजपुरी, मगही और अंगिका भाषा बोली जाती है. अन्य भाषा की तरह मातृभाषा हिंदी को भी राज्य स्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं में लागू होनी चाहिए.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

उनकी पार्टी किसी भाषा को हटाने के पक्ष में नहीं है. एनसीपी भोजपुरी, मगही और अंगिका को शामिल करने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है. उन्होंने कहा कि राज्य में 50 प्रतिशत से अधिक लोग भोजपुरी, मगही और अंगिका बोलते हैं.

उन्होंने कहा कि जबतक शिक्षा पर समाज के सभी वर्ग को एक समान अधिकार नहीं मिलता है. तब तक उंच नीच और भाषा का भेदभाव मिटाना संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि झारखंड में रहने वाला झारखंडी है. वो मैट्रिक और इंटर की शिक्षा कहीं से भी प्राप्त करे उसे सभी सरकारी नौकरियों में भागीदारी मिलनी चाहिए.

बेरोजगारी दूर नहीं कर सकते तो मंत्रालय दे दें, हम रोजगार लाकर दिखायेंगे : सूर्या

एनसीपी के प्रदेश प्रवक्ता सूर्या सिंह ने कहा कि झारखंड सरकार भाषा विवाद में राज्य को धकेल कर युवाओं को बेरोजगार बनाने का नापाक खेल खेल रही है. अगर झारखंड सरकार बेरोजगारी दूर करने में अक्षम है तो मंत्रालय दे दें, हम रोजगार लाकर दिखा देंगे.
मौके पर एनसीपी के प्रदेश महामंत्री सह विधायक प्रतिनिधि अजीत कुमार सिंह और जिलाध्यक्ष रंजीत जायसवाल उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : Jharkhand Assmabaly Budget Session : दलगत आधार पर हो नगर निकाय का चुनाव : नवीन जायसवाल

Related Articles

Back to top button