न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विदेशी निवेशकों का टूटा भरोसा- जुलाई से दोगुणा अगस्त में निकालें पैसे

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआइ) ने अगस्त महीने में भारतीय पूंजी बाजारों से 5,920 करोड़ रुपये निकाले हैं.

1,104

New Delhi: भारत में मंदी की आहट के बीच विदेशी निवेशकों का भरोसा भी टूटता नजर आ रहा है. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआइ) ने अगस्त महीने में भारतीय पूंजी बाजारों से 5,920 करोड़ रुपये की निकासी की है.

हालांकि सरकार ने पिछले सप्ताह एफपीआइ पर लगाए गए बढ़े हुए सरचार्ज को वापस लेने की घोषणा कर दी है.

मॉर्निंगस्टार के वरिष्ठ विश्लेषक प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि अगस्त में पूंजी बाजारों (शेयर और ऋण) से निकासी उम्मीदों के अनुकूल नहीं है, क्योंकि सरकार पिछले हफ्ते ही विदेशी और घरेलू निवेशकों पर बजट में अमीर लोगों पर सरचार्ज बढ़ाने का फैसला वापस लेने का ऐलान कर चुकी है.

इसे भी पढ़ेंःमंदी की मारः ऑटो सेक्टर में तेज गिरावट का सिलसिला जारी, मारुति की बिक्री 33 प्रतिशत घटी

अगस्त में 5,920 करोड़ रुपये की निकासी

डिपॉजिटरी के ताजा आंकड़ों के अनुसार एक से 30 अगस्त के दौरान एफपीआइ ने शेयरों से शुद्ध रूप से 17,592.28 करोड़ रुपये की निकासी की.

Mayfair 2-1-2020

इस दौरान उन्होंने शुद्ध रूप से ऋण या बांड बाजार में 11,672.26 करोड़ रुपये डाले. इस तरह उनकी कुल निकासी 5,920.02 करोड़ रुपये रही. जुलाई में विदेशी निवेशकों ने पूंजी बाजार से शुद्ध रूप से 2,985.88 करोड़ रुपये निकाले थे.

इससे पहले एफपीआइ ने भारतीय पूंजी बाजारों में जून में शुद्ध रूप से 10,384.54 करोड़ रुपये, मई में 9,031.15 करोड़ रुपये, अप्रैल में 16,093 करोड़ रुपये, मार्च में 45,981 करोड़ रुपये और फरवरी में 11,182 करोड़ रुपये का निवेश किया था.

Sport House

इसे भी पढ़ेंःबिहार के डिप्टी सीएम का बेतुका बयानः कहा- हर सावन, भादो के महीने में रहती है आर्थिक मंदी

सीनियर एनालिस्ट मैनेजर रिसर्च श्रीवास्तव ने कहा, ‘घरेलू अर्थव्यवस्था में मंदी की दस्तक, ग्लोबल मार्केट में उठापटक और अमेरिका व चीन के बीच ट्रेड वॉर की वजह से वैश्विक मंदी की आशंकाए सरचार्ज हटाने के बाद बने सकारात्मक माहौल पर भारी पड़ी हैं.’

वहीं, जियोजिट फाइनेंशियल सर्विसेज के एमडी सीजे जॉर्ज ने कहा, ‘विकास की रफ्तार, कॉर्पोरेट की कमाई आदि को लेकर बाजार में थोड़ी नकारात्मकता है. इसके अलावा, नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशंस भी समस्याओं में घिरे हुए हैं. घरेलू और विदेशी इनवेस्टर दोनों ही अर्थव्यवस्था की मूलभूत दिक्कतों को लेकर चिंतित है. मुझे लगता है कि सरकार की कोशिशों का तबतक मनमुताबिक असर नहीं पड़ेगा, जब तक ओवरऑल सेंटिमेंट सकारात्मक न हो.’

इसे भी पढ़ेंःजीएसटी संग्रह में गिरावट, जुलाई के 1.02 लाख करोड़ के मुकाबले अगस्त में  98,202 करोड़ रुपये  रहा

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like