JharkhandRanchiTOP SLIDER

Breaking : पंचायतों में 15वें वित्त आयोग के तहत 700 नियुक्तियां फिर लटकीं, विभाग ने स्थगित की परीक्षा

पंचायती राज विभाग ने जारी किया आदेश

Nikhil Kumar

Ranchi : राज्य सरकार ने 15वें वित्त आयोग से शेष पदों में नियुक्त होनेवाले कर्मियों की लिखित व दक्षता परीक्षा को स्थगित कर दिया है. पंचायती राज विभागग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है. 21 नवंबर को यह परीक्षा सभी जिलों में ली जानी थी. इस परीक्षा के जरिये पंचायतों में कनीय अभियंता एवं लेखा लिपिक सह कंप्यूटर ऑपरेटर की सेवा अनुबंध पर ली जानी थी. लेकिन विभाग ने इसे कतिपय कारण बता अगले आदेश तक स्थगित रखने का निर्णय लिया है.

इसकी जानकारी सभी जिलों के उपायुक्त सह अध्यक्ष जिला स्तरीय चयन समिति को दे दी गयी है. दरअसल, पंचायती राज विभाग ने फरवरी माह में राज्यभर में लगभग 14 सौ से अधिक पदों पर नियुक्ति के लिए वेकेंसी निकाली थी.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें:भाकपा माओवादी के सब-जोनल कमाण्डर और एक एरिया कमाण्डर ने किया सरेंडर

इसके आलोक में जिला स्तर पर पैनल तैयार कर नियुक्ति परीक्षा हुई, लेकिन इसमें करीब 500 की नियुक्ति हो पायी है. वहीं करीब सात सौ पद खाली रह गये थे.

झारखंड सरकार ने इसके बाद अक्टूबर में शेष बचे पदों पर नये सिरे से परीक्षा लेने का फैसला लिया था. इसके लिए जिला स्तर पर तैयारी कर ली गयी थी.

21 नवंबर को लिखित व दक्षता परीक्षा ली जानी थी, लेकिन इसे अब स्थगित कर दिया गया है. सूत्रों के मुताबिक नयी नियमावली के तहत अब इनकी परीक्षा होगी. मैट्रिक-इंटर झारखंड के स्थानीय शैक्षणिक संस्थान से उर्त्तीण होना आवश्यक है इसे जोड़ा जायेगा.

इसे भी पढ़ें:दिल्ली पॉल्यूशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, टीवी पर होने वाली डिबेट और भी ज्यादा प्रदूषण फैलाती हैं : CJI

एक साल से है कामकाज प्रभावित

14वें वित्त आयोग के कर्मियों की सेवा समाप्त करने के बाद से लगभग एक साल से पंचायतों में कामकाज ठप पड़ा हुआ था. 15वें वित्त आयोग से बहाली प्रक्रिया इस साल प्रारंभ हुई. लगभग 14 सौ पदों पर बहाली का विज्ञापन निकला. योग्य अभ्यर्थी नहीं मिलने की वजह से पांच सौ के आसपास ही अभ्यर्थियों का चयन हुआ.

इनमें अधिकांश ने अब ज्वाइन भी कर लिया है. लेकिन शेष पदों पर फिर से बहाली की प्रक्रिया प्रारंभ हुई थी. इसे भी अब स्थगित कर दिया गया है. ऐसे में पंचायतों में अब भी आधे बल के कारण काम बेहतर तरीके से होने की उम्मीद कम है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड के शैक्षणिक स्तर में मिशनरियों का 60 फीसदी से अधिक योगदान : मुख्यमंत्री

Related Articles

Back to top button