HEALTHJharkhandRanchi

सैमफोर्ड हॉस्पिटल में बिना ब्रेन खोले जांघ के पास की आर्टरी के माध्यम से की गयी ब्रेन सर्जरी

Ranchi : सैमफोर्ड हॉस्पिटल के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गयी है. अस्पताल के डॉक्टरों ने एक मुश्किल और जोखिम भरा ऑपरेशन कर महिला की जान बचायी. इस सफल ऑपरेशन को अस्पताल के न्यूरो डिपार्टमेंट हेड डॉ गणेश कुमार ने किया. अस्पताल में इलाजरत एक महिला को ब्रेन हैमरेज हुआ.

उक्त महिला को एन्यूरिज्म नाम की रेयर बीमारी है. इस बीमारी में दिमाग की नस गुब्बारे की तरह फूलने लगती है और इसके फूटने पर ब्लीडिंग के बाद मौत हो सकती है. इलाज के लिए जरूरी था एक डिवाइस को महिला के दिमाग तक पहुंचाना. डॉक्टरों ने जांघ की आर्टरी के जरिए डिवाइस दिमाग तक पहुंचायी और इलाज किया. पूरे झारखंड में इस तरह का इलाज सैमफोर्ड अस्पताल के न्यूरो डिपार्टमेंट के हेड डॉ गणेश कुमार ही करते हैं.

इसे भी पढ़ें :जियो रेफरेंस से जुड़ेंगे राज्य के 100 से अधिक शैक्षणिक संस्थान, एक क्लिक पर मिलेगी जानकारी

Catalyst IAS
SIP abacus

इस संबंध में डॉ गणेश कुमार ने बताया कि इस बीमारी के इलाज के लिए जरूरी है कि नसों में होनेवाली सूजन तक ब्लड सप्लाई रोकी जाये. इस सप्लाई को रोकने के लिए ही डिवाइस का इस्तेमाल किया गया. ब्लड सप्लाई रुकने के बाद सूजन अपने आप खत्म हो जाती है. प्रेस कांफ्रेंस में यह जानकारी मेडिकल डायरेक्टर डॉ घनश्याम सिंह, सीईओ धनंजय ओझा और डॉ विशाल ने संयुक्त रूप से दी.

MDLM
Sanjeevani

इस बीमारी के इलाज के संबंध में बताया कि महिला को बेहद गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था. ब्लड प्रेशर काफी बढ़ा हुआ था. सिर में तेज दर्द और उल्टी हो रही थी. डॉक्टरों ने चेक किया और तमाम जांच की, जिसके बाद बीमारी का पता चला. न्यूरो सर्जन डॉक्टर गणेश कुमार बताते हैं कि इस महिला की सर्जरी 2 घंटे तक चली. इसमें डिवाइस को जांघ की आर्टरी में महीन तार से (माइक्रो

कैथेटर) डाला गया. डीएसए मशीन की स्क्रीन पर अंदरूनी हिस्से को देखते हुए डिवाइस को दिमाग तक पहुंचाया गया. नस जिस जगह फूली थी, वहां पर डिवाइस उसी स्टंट की मदद से खोला गया. ऐसा होते ही खून का बहाव सामान्य हो गया. इस सर्जरी को पूरा करने में डॉक्टर गणेश कुमार की टीम के साथ डॉक्टर विशाल, सचिंद्र सचिन, सिस्टर मधु, प्रवीण, अनीता और रविंद्र भी शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :साउथ के सुपर स्टार रजनीकांत की तबीयत अचानक बिगड़ी, हैदराबाद के अस्पताल में दाखिल

Related Articles

Back to top button