National

पूर्वी लद्दाख विवाद पर राहुल का बयान निंदनीय, रिटायर्ड सैन्य अधिकारियों ने की आलोचना

विज्ञापन

New Delhi: सशस्त्र बलों के सेवानिवृत्त अधिकारियों के एक समूह ने लद्दाख सीमा विवाद से निपटने को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा केंद्र सरकार की आलोचना किए जाने को अवांछनीय एवं निंदनीय करार दिया है. सेवानिवृत्त अधिकारियों ने एक बयान में कहा कि पाकिस्तान पर गांधी के, पूर्व में दिए गए बयानों को पाकिस्तान सरकार एवं सेना ने ‘इस्तेमाल किया और उनका समर्थन किया, जिससे राष्ट्र विरोधी ताकतों को बढ़ावा मिला.’

इसे भी पढ़ेंःNIRF RANKING में बीआइटी मेसरा का तिलिस्म टूटा, IIM रांची देश में 20वें स्थान पर

बता दें कि चीन के साथ बीते कुछ दिनों से भारत के रिश्तों में तनाव आया है. और पूर्वी लद्दाख में एलएसी को लेकर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने है. हालांकि, मेजर जनरल स्तर की बातचीत से रिश्तों में आय़ी तल्खी कुछ कम हुई है. वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीमा विवाद को लेकर लगातार मोदी सरकार को घेरा.

advt

सेना के नाम पर राजनीति सही नहीं

राहुल गांधी ने बुधवार को भी चीनी सैनिकों के भारत में दाखिल होने को लेकर सवाल उठाये थे. जिसके बाद सशस्त्र बलों के सेवानिवृत्त अधिकारियों के एक समूह ने इसपर आपत्ति जटाई. इन सेवानिवृत्त अधिकारियों में एयर वाइस मार्शल (सेवानिवृत्त) संजीब बोरदोलोई, एयर कमोडोर (सेवानिवृत्त) पी सी ग्रोवर और ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) दिनकर अदीब शामिल हैं.

उन्होंने कहा, ‘तुच्छ राजनीतिक लाभ के लिए सैन्य महत्ता के मामलों को इस तरह तोड़ना-मरोड़ना अत्यंत निंदनीय है. निस्संदेह, इस प्रकार के बयान हमेशा हमारे उन सशस्त्र बलों का मनोबल और अदम्य साहस कमजोर करते हैं, जिन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पेशेवर बल के रूप में जाना जाता है और जो आजादी के बाद से सक्रिय रहे हैं.’

इसे भी पढ़ेंःCoronaEffect: आर्थिक तंगी के बीच उत्तराखंड सरकार ने नई भर्तियों और इंक्रीमेंट पर लगायी रोक

उन्होंने 1962 में चीन के साथ हुए युद्ध का भी जिक्र किया और रेखांकित किया कि उस समय भारत का नेतृत्व जवाहरलाल नेहरू ने किया था. बयान में कहा गया है, ‘हम न केवल बिना तैयारी के मैदान में उतरे, बल्कि हमें चीन के हाथों बेहद शर्मनाक हार झेलनी पड़ी थी, जबकि हमारे जवान बहादुरी से लड़े थे और चीन के जवान बड़ी संख्या में मारे गए थे.’

adv

उन्होंने कहा, ‘हम भारतीय और चीनी बलों के बीच लद्दाख में सीमा पर मौजूदा गतिरोध के संबंध में राहुल गांधी के हालिया अवांछनीय ट्वीट तथा बयानों से बहुत चिंतित हैं. हम ऐसे व्यक्ति के अवांछनीय एवं निंदनीय बयानों की निंदा करते हैं जिसे यह अंदाजा नहीं है कि हमारे जवान दुनिया के सबसे दुर्गम एवं प्रतिकूल क्षेत्र में कैसे काम करते हैं.’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर गतिरोध को लेकर बुधवार को आरोप लगाया था कि चीन के सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल हो गए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खामोश हैं और कहीं नजर नहीं आ रहे हैं.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button