DhanbadJharkhand

#ModelCodeOfConduct के पेच में फंसी अलाव की लकड़ी, सार्वजनिक जगहों पर ठिठुरने को मजबूर हैं लोग

Dhanbad : पिछले कई दिनों से धनबाद में ठंड का प्रकोप बढ़ गया है. धनबाद में पारा गिरकर 8 डिग्री तक पहुंच गया है. हवा में कनकनी महसूस की जा रही है.

सुबह 11 बजे से पहले लोग घरों से निकलने से बच रहे हैं जबकि शाम के चार बजते ही लोग घरों में दुबकने लगते हैं.

वहीं, कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्हें परिवार का भरण– पोषण करने के लिए सुबह ही घरों से निकलना पड़ता है. कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके सिर पर छत नहीं है. वे लोग सार्वजनिक जगहों पर ठंड में ठिठुर कर रहने को विवश हैं.

ऐसे लोगों के लिए हर साल जिला प्रशासन की ओर से अलाव की व्यवस्था की जाती है लेकिन इस बार आचार संहिता लगे रहने के कारण अभी तक अलाव की व्यवस्था नहीं की गयी है जिस कारण लोग ठंड में ठिठुरने को मजबूर हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #Dhanbad में साइबर क्राइम के बड़े गिरोह का खुलासा, 25 से ज्यादा गिरफ्तार, हर महीने 250 करोड़ की करते थे ठगी

लोगों ने कहा – नहीं है अलाव की व्यवस्था, जान बचाना हो रहा है मुश्किल

धनबाद रेलवे स्टेशन पर ठेला-खोमचा और मोटिया मजदूरों ने कहा कि हम लोग किसी तरह इस ठंड में ठिठुर कर रात गुजारने को विवश हैं.

प्रशासन की ओर से अब तक न तो किसी गरीब को कंबल दिया गया है और न ही अलाव की व्यवस्था की गयी. ठंड अधिक लगने पर हमलोग कागज या प्लास्टिक जलाकर आग ताप लेते हैं. पता नहीं ऐसे और कितने दिन गुजारने होंगे.

धनबाद रेलवे स्टेशन पर एक सब्जी बेचने वाली महिला ने बताया कि हम भी ठंड में घर से नहीं निकलना चाहते हैं लेकिन क्या करें पापी पेट का सवाल है.

पिछले वर्ष धनबाद रेलवे स्टेशन पर अलाव की व्यवस्था थी. ठंड लगने पर हमलोग अलाव तापकर अपनी जान बचाते थे लेकिन इस बार इसकी व्यवस्था नहीं है जिस कारण हमलोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें : #Survey: देश में 2.20 करोड़ लोग पीते हैं गांजा

अभी और बढ़ सकती है ठंड

मौसम विभाग के अनुसार अभी कुछ दिनों तक शीतलहर रहने की संभावना है. ऐसे फुटपाथ पर रहकर अपना जीवन यापन करने वाले लोगों को अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

जिला प्रशासन अगर इन लोगों के लिए जल्द ही अलाव और कंबल की व्यवस्था नहीं करेगा तो स्थिति विकट हो सकती है.

इसे भी पढ़ें : एग्जिट पोल की माने तो ऐसी होगी अबकी बार झारखंड की सरकार!

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: