Bokaro

बोकारो: प्रसव के दौरान महिला की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

Bokaro: बोकारो में प्रसव के दौरान महिला की मौत हो गई. जिसके बाद उनके परिजनों ने डॉक्टर्स पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया. शहर के सेक्टर-8 स्थित जैन अस्पताल का ये मामला है. जिसके बाद उसके परिजनों ने सुबह में अस्पताल परिसर में हंगामा किया. इधर हंगामा की सूचना मिलने के बाद हरला थाना प्रभारी जय गोविंद प्रसाद गुप्ता पहुंचे और उन्होंने मामले को शांत कराया.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड पुलिस का दावा बचे हैं सिर्फ 550 माओवादी, लेकिन उनसे लड़ने में लगी है CRPF की 122, IRB की 5 और JJ की 40 कंपनी

घटना के बाद परेशान परिजन
ram janam hospital
Catalyst IAS

फिलहाल नवजात बच्ची को बेहतर इलाज के लिए बीजीएच में भर्ती कराया गया है. वहीं मृतका के परिजन अस्पताल प्रबंधन पर मुकदमा करने की मांग कर रहे हैं. मृतका की बहन महेश्वरी देवी ने बताया कि महिला को सोमवार को अस्पताल में प्रसव पीड़ा के बाद भर्ती कराया गया था. उनकी बहन सर्वेश्वरी की नॉर्मल डिलिवरी हुई थी. जन्म के बाद बच्ची बेहोश थी. डॉक्टर ने उसे आईसीयू में भर्ती किया है. इस बीच उनकी बहन की स्थिति काफी खराब हो गई. और चिकित्सक यह भरोसा देते रहे कि उनकी बहन की तबियत ठीक हो जायेगी. लेकिन जब देर रात तक तबियत ठीक नहीं हुई, तब उसे लेकर बीजीएच चले गये. जहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंःअडाणी को लाभ पहुंचाने के लिए एक खास क्षेत्र को स्पेशल इकोनामिक जोन घोषित कर दिया

परिजनों ने नहीं उठाया शव

मतृका शहर के बारी को-ऑपरेटिव कॉलोनी निवासी इंद्र कुमार की पत्नी थी, जो चास के एसबीआई में क्लर्क के पोस्ट में कार्यरत है. उन्होंने बताया कि पत्नी सर्वेश्वरी को कल प्रसव पीड़ा होने पर जैन अस्पताल में भर्ती कराया था. जहां पर ये लापरवाही हुई. घटना के बाद से पूरा परिवार परेशान है. सभी लोग आज सुबह से अस्पताल में जमा होकर हंगामा करने लगे, लेकिन पुलिस के हस्तक्षेप से मामला शांत कराने का प्रयास किया गया. शव को अभी तक परिजनों ने नहीं उठाया है.

चास के निजी नर्सिंग होम में कल भी हुई थी मौत

चास के एक निजी नर्सिंग होम सोमवार को रानीपोखर पंचायत की रहने वाली एक महिला की मौत प्रसव के बाद हो गई थी. वहां पर भी परिजनों ने काफी हंगामा किया था. जहां पर चास एसडीपीओ, चास थाना प्रभारी आदि ने पहुंचकर मामले को शांत कराया था. इस मामले को लेकर भी चास थाना में किसी भी प्रकार की प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई. यहां पर मृतका के परिजन चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू कश्मीरः त्राल में सुरक्षाबलों से मुठभेड़ में हिजबुल के दो आतंकी ढेर

दो दिनों में दो अलग-अलग निजी नर्सिंग होम में दो महिलाओं के मौत के बाद बोकारो शहर में चलने वाले नर्सिंग होम की व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं. जिस पर जिला प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःआर्थिक मोर्चे पर भारत को झटका देने की तैयारी में अमेरिका, वापस ले सकता है जीएसपी सुविधा

Related Articles

Back to top button