BokaroTop Story

बोकारोः शिबू सोरेन आवास पर लौटते कबूतर बने कौतूहल का विषय, BJP के शासन में आवास छोड़ उड़ गये थे परिंदे

विज्ञापन

Divy Khare

Bokaro: वो कहते हैं ना जब अच्छा वक्त आता है तो दुनिया बदल जाती है. झारखंड मुक्ति मोर्चा का अच्छा वक्त आने का संकेत बोकारो स्थित शिबू सोरेन आवास के रहने वाले परिंदे भी दे रहे हैं. कबूतर का झुंड जो भाजपा शासन में शिबू सोरेन का घर छोड़ उड़ गया था अब वापस लौटने लगा हैं.

इसे भी पढ़ेंःठंड का कहरः दिल्ली में टूटा 119 सालों का रिकॉर्ड, 450 फ्लाइट्स लेट, 21 डायवर्ट, 40 कैंसिल

कबूतर के लौटने को झामुमो कार्यकर्ता खुशहाली का संदेश मान रहे हैं. यह कबूतर शिबू सोरेन के पाले हुए हैं. गुरुजी जब बोकारो आते थे तब इन कबूतरों को अपने हाथ से दाना फेंकते थे. घर में रहने वाले लोग यह जानते है कि शिबू सोरेन को कबूतरों से बहुत लगाव है. पर बदलते समय के साथ यह कबूतर अपने घोसले को छोड़ उड़ गए थे.

ऐसी अवधारणा है कि कबूतर बुरे वक्त में अपने मालिक का घर छोड़ देते हैं. इसलिए बहुत लोग कबूतर पालने से परहेज करते हैं. उनका मानना है कि कबूतर ऐसा पक्षी है जो बुरे वक्त में उनका साथ छोड़ देगा, यह सिर्फ अच्छे वक्त का साथी है.

अच्छे वक्त का संदेश दे रहे कबूतर

हालांकि कबूतरों का शिबू शरण आवास में वापस लौटना अब अच्छे समय आने का संकेत लेकर आया है. यह कबूतर करीब 5 साल बाद वापस अपने घोसले में सोरेन आवास लौटे हैं.

गुरुजी के करीबी कहे जाने वाले शंभू यादव ने कहा की यह कबूतर 2014 में भाजपा सरकार आने के बाद धीरे-धीरे कर के कहीं उड़ गए थे. अब मंगलवार से यह धीरे-धीरे वापस आ रहे हैं.

कबूतरों का आना वह भी तब जब झामुमो वापस सरकार बना रही है आश्चर्यचकित कर देने वाला है. गुरु जी को पशु पक्षी और खेती बागवानी से बहुत प्यार है. उनको जब भी फुर्सत मिलती है तो इन्हीं के बीच रहते हैं.

पर पिछले 5 सालों में मानो ये सब खत्म सा हो गया था. कबूतर उड़ गए थे, गाय का शेड खाली हो गया था और घर के सटे फॉर्मलैंड की स्थिति बदहाल हो गई थी. अब वापस सब सही हो रहा है.

इसे भी पढ़ेंःनेता प्रतिपक्ष का आवास हुआ सीएम आवास,  हेमंत ने कहा- सर्वांगीण विकास के लिए काम करेगी सरकार

कभी 50-60 कबूतर सोरेन आवास की बढ़ाते थे शोभा

पहले कभी 50-60 कबूतर सोरेन आवास की शोभा बढ़ाते थे. झामुमो कार्यकर्ता यहां आने पर इनको देखकर खुश होते थे. गुरुजी ने इन सभी कबूतरों के लिए आंगन में करीब 3 दर्जन से भी ऊपर मटके लटकवाय थे.

कबूतरों के इस तरह से जाने के बाद गुरुजी भी दुखी हो गए थे. अब इनके आने की खबर हमने गुरु जी तक पहुंचा दी है. वह यह जानकर बहुत खुश हैं. फिलहाल सिर्फ एक दर्जन कबूतरी वापस आए हैं, लेकिन हर दिन इनकी आने की संख्या बढ़ती जा रही है.

अनुज जो गुरुजी के बोकारो आने पर उनका विशेष ख्याल रखते है ने कबूतरों का फोटो मोबाइल से खींच कर उनको भेज दिया है. गुरुजी ने अनुज को यह कहा है कि वह जल्दी गाय भी लेते आएंगे.

हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह के 1 दिन पहले शिबू शरण आवास बोकारो में आने वाले कार्यकर्ताओं के बीच में कबूतरों का आना कौतूहल का विषय बना रहा. लोग इसको दिखा दिखा कर फोटो खींचते नजर आए.

लोगों का कहना था कि यह कबूतर सिर्फ झामुमो के लिए ही नहीं बल्कि झारखंड की भी खुशियां वापस ले आए हैं.

इसे भी पढ़ेंःहेमंत ने पहली ही कैबिनेट बैठक में रिक्त पदों को भरने का दिया निर्देश, 40,000 नौकरियों की जगी उम्मीद

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close