न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : पारा शिक्षकों ने सांसद रवींद्र पांडेय के आवास का किया घेराव

52

Bermo : एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा बोकारो के बैनर तले रविवार को दर्जनों पारा शिक्षकों ने गिरिडीह सांसद रवींद्र कुमार पांडेय के फुसरो स्थित आवास का घेराव किया. इस दौरान पारा शिक्षकों ने प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें झारखंड के सभी पारा शिक्षकों को छत्तीसगढ़ की तर्ज पर स्थायी करने तथा उनका वेतनमान लागू करने की मांग की गयी है. सांसद की अनुपस्थिति में पारा शिक्षकों ने यह ज्ञापन उनके पीए मृत्युंजय पांडेय को सौंपा.

साथ में बने थे छत्तीसगढ़-झारखंड, वहां पारा शिक्षक स्थायी, यहां सरकार बरसा रही लाठियां

मौके पर मोर्चा के जिला सचिव काली चरण रवानी ने कहा कि राज्य के पारा शिक्षक 15 वर्षों से स्थायी करने की मांग कर रहे हैं. झारखंड राज्य के साथ-साथ छत्तीसगढ़ राज्य भी बना था. वहां की सरकार ने पारा शिक्षकों की सेवा स्थायी कर दी, लेकिन हमारी सरकार मांग करने पर हम पर लाठियां बरसा रही है. फिलहाल उनके खिलाफ राज्य सरकार ने दमनकारी नीति अपनाते हुए शिक्षकों को बर्खास्त करना शुरू कर दिया है. समाज को शिक्षित करनेवाले शिक्षकों को जेल में बंद कर दिया गया है. पूरे राज्य की शिक्षा व्यवस्था ठप पड़ गयी है. ऐसे में प्रधानमंत्री उनकी मांगों पर विचार करते हुए राज्य के सभी पारा शिक्षकों को स्थायी करें.

ये थे मौजूद

मौके पर कालीचरण रवानी, राजकुमार दिगार, विकास सिंह, श्रवण कुमार, शिव प्रकाश पांडेय, सोनू कांत वर्मा, कुमकुम कुमारी, सोनी देवी, मीना कुमारी, मनोज विश्वकर्मा, मुनिलाल, ज्योति हेम्ब्रम, खुर्शीदा खातून, पिंकी राय, बोध नारायण, मंगलदेव सिंह, अमित सिंह, अनीता कुमारी, बबिता रानी, निशा कुमारी, सीमा सिन्हा, संजय पांडे मुकेश यादव, मनोज यादव, सुशील कुमार, अनिल कुमार, नरेश राम, मोहन भोक्ता, सुमन कुमार, अजय कुमार, काशीनाथ, अजय वर्णवाल, मणिभूषण, संतोष चौबे, प्रमोद कुमार, श्याम लाल सहित अन्य पारा शिक्षक मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- छोटे-छोटे अफीम तस्करों को गिरफ्तार कर पुलिस थपथपा रही है अपनी पीठ

इसे भी पढ़ें- रिम्‍स में लावारिस मरीजों की पीड़ा समझने वाला कोई नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: