Bokaro

बोकारोः JMM BSL आवास खाली करने को तैयार नहीं, सेक्टरवासी कह रहे खाली कराओ या हमें हटाओ, प्रबंधन चुप

Bokaro: जेएमएम का बीएसएल क्वॉटर में पार्टी कार्यालय बनाने का मुद्दा गहराता ही जा रहा है. पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ताला तोड़ा और सेक्टर-1/बी स्तिथ 222 नंबर आवास को पार्टी कार्यालय घोषित कर दिया. घटना को 48 घंटे बीत गए हैं. लेकिन अभी तक बीएसएल प्रबंधन ने ये साफ नहीं किया है कि आखिर वो इस मामले पर क्या करने वाला है.

न ही किसी तरह का लीगल एक्शन लिया गया और न ही आवास को पार्टी के नाम पर अलॉट किया गया है. इस मामले में कुछ अगर हो रहा है, तो वो है राजनीति. जल्द ही प्रबंधन की तरफ से रुख साफ नहीं किया गया तो यहां लॉ एंड ऑर्डर की परेशानी भी हो सकती है.

इसे भी पढ़ेंःआजसू पार्टी ने की सिदो कान्हू के वंशज रामेश्वर मुर्मू की मौत की सीबीआइ जांच की मांग

क्या है मामला

बुधवार को सेक्टर-1/बी के कुछ निवासियों ने चीफ जनरल मैनेजर, टाउन एंड एडमिनिस्ट्रेशन विभाकर सिंह से मिलकर उनके कॉलोनी में झामुमो का कार्यालय खोले जाने का विरोध किया है. वही झामुमो के नेताओं ने एक दिन पहले मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर पत्रकारों को यह बताया कि खाली मकान में उन लोगों ने प्रवेश किया है. आवेदन लंबित है. प्रबंधन शीघ्र मकान उनको आवंटित करे. और बीएसएल प्रबंधन अपने आवासों से अवैध कब्जा खाली कराये, झामुमो स्वयं ही आवास खाली कर देगा.

इधर जेएमएम जिलाध्यक्ष हीरालाल मांझी ने अनुसार “इस संबंध में केन्द्रीय इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को पत्र भेजा गया है. इस पत्र में हमने लिखा है कि किस तरह बीएसएल के नगर सेवा विभाग के अधिकारी मिलकर कब्जा कराते रहे हैं. हमने कहा है कि पूरे मामले की सीबीआइ जांच होनी चाहिए. साथ ही जिन अधिकारियों के कार्यकाल में अवैध कब्जा हुआ है उनसे इसकी राशि वसूल की जानी चाहिए”.

क्या कहते हैं जेएमएम नेता

झामुमो के सिटी प्रेसिडेंट और पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन के नजदीकी कहे जाने वाले मंटू यादव के अनुसार, बोकारो नगर सेवा भवन भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है. बीएसएल प्रबंधन सरकारी कर्मी, बीएसएल के पूर्व कर्मी, ठेका श्रमिकों व विस्थापितों को वैधानिक तौर पर खाली पड़े आवास आवंटित करे. उन्होंने सेक्टर-1/बी के निवासियों को आश्वस्त किया कि झामुमो के कार्यालय खुलने से उनको किसी भी तरह कि परेशानी नहीं होगी इसके विपरीत उस इलाके की सुरक्षा और बढ़ी है. सेक्टर-1/बी में दूसरे पॉलिटिक्ल पार्टी का भी आवासीय कार्यालय है.

मंटू यादव ने यह भी कहा कि झामुमो के कार्यालय खुलना शहर के लोगों के हित में होगा. उक्त कॉलोनी के लोग किसी प्रकार के बहकावे और किसी के चढ़ाने में न आये. राज्य की झामुमो सरकार सबके हित और सुरक्षा का ध्यान रखती है. “हमलोगों ने सीबीआइ जांच की डिमांड की है, जिससे बीएसएल प्रबंधन विचलित है. क्योंकि अगर जांच हुई तो कई बीएसएल अधिकारी और कर्मचारी फंसेंगे. इसलिए मामले को दूसरी दिशा देने के लिए सेक्टर-1 /बी के अधिकारियो जो वहां के निवासी है उनको ढाल बना झामुमो को बदनाम करने की कोशिश बीएसएल प्रबंधन कर रहा है.

इसे भी पढ़ेंःबड़ी राहतः स्कूल फीस को लेकर सरकार का आदेश, ट्यूशन फीस के अलावा किसी तरह की फीस नहीं लें स्कूल

पार्टी ऑफिस से लोगों को हो रही परेशानी

इधर बोकारो स्टील ऑफिसर एसोसिएशन के प्रेसिडेंट, एके सिंह के नेतृत्व में सेक्टर-1/बी के निवासियों का एक दल चीफ जनरल मैनेजर से मिला. यह निवासी बीएसएल में अधिकारी है.  उनके अनुसार झामुमो द्वारा कब्ज़ा किया हुआ मकान उनके गली के लगभग बीच में है. उनके अनुसार वर्तमान माहौल में उनका परिवार खुद को असहज महसूस कर रहा हैं. महिलाओं में डर व्याप्त है.

सड़क पर बहुत सारे वाहनों और कार्यकर्ताओं की उपस्थिति के कारण उन्हें वाहनों को पार्क करने में कठिनाइये हो रही है. इस मुद्दे की गंभीरता और उनकी कठिनाइयों को देखते हुए उन्होंने बीएसएल प्रबंधन से अनुरोध किया है कि या तो राजनीतिक दल के उक्त कार्यालय को कहीं और स्थानांतरित कर दे या उन सभी को नए स्थान पर शिफ्ट कर दें.

इसे भी पढ़ेंःधनबादः PMCH ने 250 की सैनिटाइजर 450 रुपये प्रति बोतल खरीदी, जांच शुरू

Telegram
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close