न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : झुमरा पहाड़ इलाके में हाथियों का उत्पात, मकान तोड़े, धान की फसल रौंदी

झुमरा पहाड़ इलाके में हाथियों के उत्पात तीन दिनों से जारी है, कल तक हाथी धान के खेतों को रौंद रहे थे, लेकिन बीती रात पंचमो गांव के बघरैया टोला में मिट्टी के मकान तोड़ डाले

205

Bokaro : बोकारो जिले के झुमरा पहाड़ इलाके में हाथियों के उत्पात तीन दिनों से जारी है, कल तक हाथी धान के खेतों को रौंद रहे थे, लेकिन बीती रात पंचमो गांव के बघरैया टोला में एक दर्जन जंगली हाथियों के झुंड ने राजेश महतो, बिशवनाथ महतो और घनश्याम महतो के मिट्टी के मकान को तोड़ डाला. वहीं खेतों में लगी धान की फसल बर्बाद कर दी. हालांकि रात में ग्रामीण उन्हें भगाने में सफल हुए. जबकि तीन दिनों से वन विभाग की टीम वहां नही पहुंची है, जिस कारण ग्रामीणो को खुद हाथियों को भगाना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें- मीटर खरीद मामले में जेबीवीएनएल जिद पर अड़ा, मनमाने ढंग से टेंडर के बाद सीएमडी की चिट्ठी की भी परवाह…

hosp1

धान के नुकसान से परेशान हैं किसान

हाथियों का झुंड घरों के साथ इस बार खेतों में लगे धान की फसल केा रौंद रहा है, जिससे किसान काफी परेशान हैं. एक हो इस बार बारिश नहीं हुई है, किसी तरह किसान पानी को खेतों में रोककर धान को लगाने में सफल हुए हैं, अब कुछ दिनों के बाद धान की फसल तैयार होनेवाली है. इसी बीच इलाके में हाथी धमक गये है और लगातार फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं. किसान राजेन्द्र महतो ने बताया कि 13 हाथी जिस गांव होकर गुजर रहे है, उस इलाके में धान की फसल बर्बाद हो रही है.

इसे भी पढ़ें- आयुष्मान भारत योजना में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी : मुख्यमंत्री

महीनों से इसी इलाके में भटक रहे हैं गजराज

करीब छह माह से हाथियों का झुंड इसी इलाके में भटक रहा है. लोगों का कहना है कि हाथी लुगू पहाड़ के आस-पास घने जंगलों में डेरा डाले हुए हैं. शाम होते ही सभी गांव में घुस जाते हैं. हाथियों के उत्पात को रोकने के लिए बोकारो वन प्रमंडल की ओर से कोई ठोस प्रयास नहीं किया जा रहा है. एक हाथी भगाओ दल बनाकर हाथियों को इस इलाके से दूसरे इलाके में खदेड़ने का काम किया जा रहा है. बता दें कि इनके उत्पात को रोकने के लिए लुगू पहाड़ में ही किसी परियोजना के तहत सार्थक प्रयास विभाग को करना होगा, ताकि हाथी गांव में उत्पात न कर सकें.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: