न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो: डॉ. डीके गुप्ता घर से क्लीनिक तक पसरा सन्नाटा, पुलिस की गिरफ्त से बाहर आरोपी

मकान हड़पने की नीयत से भाई-बहन को उनके ही घर में सालों बनाया बंधक

1,618

Bokaro: जिले के डॉ. डीके गुप्ता फिलहाल बोकारो पुलिस की गिरफ्त से फिलहाल बाहर है. वही आरोपी डॉक्टर के घर से लेकर क्लीनिक तक सन्नाटा पसरा है. मकान, क्लीनिक में ताला लटका है. जिले के नेत्र चिकित्सक डॉ. डीके गुप्ता पर 229 को-ऑपरेटिव कॉलोनी प्लॉट को हड़पने की साजिश रचने एवं प्लॉट के मालिक मंजू श्री घोष और दीपक घोष को वर्षो तक एक कमरे में बंधक बनाने के आरोप में बोकारो स्टील सिटी थाना में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है.

इसे भी पढ़ेंः मकान पर कब्जा के लिए भाई-बहन को कमरे में बंद रखने वाले डॉ. डीके गुप्ता को बचा रही पुलिस, चार दिन बाद FIR दर्ज

गुरुवार रात पीड़ितों से पूछताछ

hosp3

हालांकि ये पूरा मामला चार दिनों से ही चल रहा है. लेकिन पहले दिन भाई-बहन को बंद कमरे से निकालकर पुलिस और कॉलोनी के लोगों ने बीजीएच में इलाज के लिए भर्ती कराया, जहां पर दोनों का इलाज चल रहा है. इधर को-ऑपरेटिव कॉलोनी के प्लॉट नंबर 403 निवासी पूर्णेन्दू कुमार सिंह ने मंजूश्री घोष और दीपक घोष की ओर से सिटी थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है. गुरुवार रात को एसपी कार्तिक एस दोनों भाई-बहन से बीजीएच पूछताछ करने पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ेंः बोकारो : सात दिनों से लापता है युवक, ससुराल वालों पर गायब करने का आरोप

घर से क्लीनिक तक पसरा सन्नाटा

डॉ. डीके गुप्ता का घर शहर के बियाडा ऑफिसर्स कॉलोनी के प्लॉट संख्या 10 में है. जहां पर पिछले चार दिन से सन्नाटा पसरा हुआ है, जब से मामले का सामने आया है, उसके बाद से ही डॉ. गुप्ता कॉलोनी में नजर नहीं आ रहे हैं. जबकि उनके घर में एक नौकर रह रहा है, जो कुछ भी बताने से परहेज कर रहा है. ठीक ऐसा ही हाल उनके 229 को-ऑपरेटिव स्थित नवज्योति क्लीनिक का भी है. वहां पर एक महिला मजदूर को घर की सफाई करते मिली. लेकिन उसने भी किसी तरह की जानकारी नहीं होने की बात कही.

इसे भी पढ़ेंःराज्य के वरिष्ठ आईएएस का छलका दर्द, कहा- मंत्री गंभीर विषयों को सुनना ही नहीं चाहते

गौरतलब है कि शहर के को-ऑपरेटिव कालोनी में अपने ही घर में एक भाई-बहन को जानवरों की तरह कैद रखा गया था. मकान हड़पने की नीयत से ये सारा खेल रचा गया था. पूरे मामले को लेकर किरायेदार डॉ. डीके गुप्ता की भूमिका संदेहास्पद है. फिलहाल दोनों भाई-बहनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: