न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारोः पीएम के कार्यक्रम के लिए स्कूल से मांगी गयी बसें, प्रभावित होगी पढ़ाई

1,368

DK

Bokaro: स्कूलों को बुधवार तक जिला परिवहन कार्यालय द्वारा कम से कम दो बसें उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है. क्योंकि उन्हें लाभार्थियों को प्रधानमंत्री समारोह में भेजना है, जो गुरुवार को रांची के प्रभात तारा मैदान, धुर्वा में आयोजित किया जाना है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

जिला परिवहन कार्यालय ने पत्र जारी किया है. अकेले बोकारो से 96 बसों की मांग करते हुए शहर के 48 निजी स्कूलों को पत्र भेजा गया है.

कई स्कूल बस देने में असहज महसूस कर रहे हैं क्योंकि परीक्षा चल रही है. स्कूलों के साथ समन्वय कर रहे जिला परिवहन विभाग के कर्मियों अंबिका प्रसाद बाउरी ने कहा कि 48 स्कूलों को संदेश दिए गए हैं कि वे बुधवार को दो स्कूल बसों को कंट्रोल रूम में जमा करे.

इसे भी पढ़ेंः#Weather झारखंड-बिहार में बरसेंगे बादल, यूपी-ओडिशा-बंगाल में भी होगी बारिश

पीएम के कार्यक्रम के लिए मांगी गयी बसें

बसों का उपयोग कृषि और पशुपालन विभाग के लाभार्थियों और कर्मचारियों को रांची ले जाने में किया जाएगा. उनकी भागीदारी समारोह में सुनिश्चित करनी है, जहां पीएम रांची में किसान मानधन योजना का उद्घाटन करने वाले हैं.

जिले के 48 निजी स्कूलों को नोटिस जारी किए गए हैं. आयोजक राज्य कृषि और पशुपालन विभाग और रांची प्रशासन ने 200 बसों की आवश्यकता बताई है, जिनमें से 96 बसों का प्रबंध केवल बोकारो से किया जा रहा है.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

कई स्कूल इस संदर्भ में राहत की उम्मीद लगाय बैठे हैं, क्योंकि इस सप्ताह सोमवार और मंगलवार को छुट्टियां थीं और दो बसें देने से फिर से छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी.

इसे भी पढ़ेंःटुंडी विधानसभा : सीटिंग विधायक #AJSU से, फिर भी #BJP से टिकट की होड़ में दर्जन भर हेवीवेट उम्मीदवार

स्कूल का कहना है कि अगर माता-पिता को अपने बच्चों को खुद से लाने के लिये कहा जायेगा तो वो इसका विरोध करेंगे. ऐसी स्थिति से निपटना मुश्किल होता है.

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले, झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के कार्यकारी अध्यक्ष, हेमंत सोरेन बोकारो में एक पार्टी समारोह में राज्य में पीएम और मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए स्कूल बसों को लेने के लिए भाजपा सरकार की आलोचना की थी. उन्होंने कहा था कि इससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होती है और शैक्षिक माहौल खराब होता है.

इसे भी पढ़ेंः#UNHRC: पाक को भारत का दो टूक जवाब, जम्मू- कश्मीर भारत का आंतरिक मामला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like