न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : 946 करोड़ की लागत से बन रही सड़कों पर आयी दरार, छुपाने के लिए भरा अलकतरा

चास के आईटीआई मोड़ से बंगाल सीमा के बीच बनी टू लेन सड़क का हाल

690

Prakash Mishra

Bokaro : धनबाद के राजगंज से पश्चिम बंगाल की सीमा तक बोकारो जिला होकर बनने वाली फोर लेन-टू लेन एनएच-32 सड़क का निर्माण 946 करोड़ की लागत से किया जा रहा है. लेकिन सड़क के पूरा बनने से पहले ही 19 किलोमीटर की टू लेन सड़क पर दरार आने लगी है. दरार को छुपाने के लिए सड़क निर्माण करा रही अशोक बिल्डकॉन लिमिटेड की ओर से अलकतरा डाला जा रहा है.

ताकि वह दरार आगे न बढ़ सके. चास के आईटीआई मोड़ से पश्चिम बंगाल की सीमा तक सड़क का निर्माण लगभग पूरा हो गया है, जिसमें आईटीआई मोड़ और चास जेल मोड़ के पास से ही दरार पड़ना शुरू हो गया है. सड़क पर कहीं छोटा तो कहीं लंबा दरार सड़क पर साफतौर पर देखा जा सकता है.

इस बारे में स्थानीय लोगों का कहना है कि सड़क निर्माण में बरती गई लापरवाही का ही नतीजा है, जो अब सड़क का निर्माण कार्य पूरा होने से पहले अभी से ही सामने दिखने लगा है. जबकि यह सड़क करीब एक फीट ऊंची है, जिसमें सरिया का भी उपयोग किया गया है. लेकिन जब अभी से ही सड़क की स्थिति यह है तो आने वाले दिनों में इसका क्या हाल होगा. अंदाजा लगाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – दो सीनियर IAS रैंक के सचिव रहने के बावजूद वित्त विभाग के 39 प्रभार जूनियर रैंक के संयुक्त सचिव को

नितिन गड़करी का दावा – दो सौ वर्ष चलेगी सड़क

हाल ही में भाजपा प्रत्याशी पीएन सिंह के समर्थन में आयोजित चुनावी रैली को संबोधित करते हुए  केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने सड़कों को लेकर दावा किया था. गडकरी ने कहा था कि  अभी जो सड़क झारखंड़ में बन रही है, वह करीब दो सौ वर्षो तक चलेगी. क्योंकि सड़क कंक्रीट की बन रही है और इसमें गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखा जा रहा है.

लेकिन महज दावों से क्या होता है. बोकारो में गडकरी के विभाग का हाल ठीक नहीं है, क्योंकि उनके सारे दावों की हवा सड़कों की दरारें निकाल रही हैं.

इसे भी पढ़ें – जल संसाधन विभाग 408345.53 में से मात्र 134494 हेक्टेयर पर ही उपलब्ध करा पाया सिंचाई सुविधा

57 किमी लंबी बनेगी सड़क

57 किमी लंबी सड़क धनबाद के राजगंज से चास होकर पश्चिम बंगाल सीमा तक बन रही है. जिसमें 38 किमी की फोर लेन और 19 किमी टू लेन की सड़क शामिल है. इन सड़कों के निर्माण कार्य को  लगभग निर्धारित दो वर्षो में पूरा कर लेना है.

इस सड़क में धनबाद के बाघमारा प्रखंड के महेशपुर के लिए पांच किलोमीटर का लंबा बाईपास भी बनाया जा रहा है. वहीं चार स्थानों पर रेलवे ओवर ब्रिज, एक रेलवे अंडर ब्रिज सहित तेलमोच्चों स्थित दामोदर नदी पर एक नया पुल भी बनाया जा रहा है.

राज्य के दो महत्वपूर्ण जिलों को जोड़ेगा सड़क

यह सड़क राज्य के दो महत्वपूर्ण औद्योगिक जिलों से होकर गुजरता है. जिसमें धनबाद और बोकारो  हैं. यह सड़क झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और देश के अन्य हिस्सों के बीच अंतर-राज्य कनेक्टिविटी के लिए एक महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगा. जिनके बन जाने से कोयला और इस्पात के परिवहन में सुविधा होगी. जिसका देश में औद्योगिक विकास में अहम योगदान होगा.

लेकिन सड़कों का निर्माण ऐसे ही किया जाता रहा तो आगे भी कई जगहों पर दरार पड़नी शुरू हो जायेगी. इसके अलावा इन सड़कों को एक राज्य से दूसरे राज्य के अलावा जिलों को जोड़ने का काम मुश्किल हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें – तेजी से घट रहा झारखंड का जलस्तर, एक साल में गिरा औसतन साढ़े छह फीट

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: